प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

13 December 2012

वीरता का पुरस्कार ......?

हिंदुस्तान-लखनऊ-13/12/2012 (पृष्ठ-16)
वो
एक माँ है
बेटी है
पत्नी है
उसने

11 साल पहले
संसद पर
गोली खाई है
वो वीर है
इतिहास के पन्नों पर

उसकी वीरता
आज लगा रही है झाड़ू
दिल्ली की सड़कों पर
निर्भर हो कर
ठेकेदार के करम पर

क्या वो झाड़ पाएगी
कागज के दबे पन्नों से धूल
क्या वो निकाल पाएगी
अलमारी मे छिपी
उस मोटी फाइल का बंडल
जिसमें छुप कर
कुंभकरणी नींद सो रहा है
उसकी वीरता का सबूत ?

या
यूं ही
चार हज़ार की
चक्की में
पिसता उसका जीवन
हर साल छपा करेगा
अखबार के पिछले पन्ने पर ?

(आज के 'हिंदुस्तान' मे छपे समाचार से प्रेरित-देखें चित्र)

©यशवन्त माथुर©

11 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. सरकार को त्वरित कार्यवाही कर अपनी अस्मिता की रक्षा करनी चाहिए ,अन्यथा कल को कोई बलिदान करने से मुंह मोड़ लेगा

    MAIN AAPAKI SAJAGATA KO NAMAN KARATA HUN.

    ReplyDelete
  2. क्या वो झाड़ पाएगी
    कागज के दबे पन्नों से धूल
    क्या वो निकाल पाएगी
    अलमारी मे छिपी
    उस मोटी फाइल का बंडल
    जिसमें छुप कर
    कुंभकरणी नींद सो रहा है
    उसकी वीरता का सबूत ?

    या
    यूं ही
    चार हज़ार की
    चक्की में
    पिसता उसका जीवन
    हर साल छपा करेगा
    अखबार के पिछले पन्ने पर ?


    सुंदर रचना।।।

    ReplyDelete
  3. मार्मिक सत्य , सार्थक अभिव्यक्ति !!!

    ReplyDelete
  4. गंभीर प्रश्न उठाती रचना .... सरकार की नींद खुलनी चाहिए ।

    ReplyDelete
  5. सरकार की नींद ऐसे समय कुम्हकरनी हो जाती है :((

    ReplyDelete
  6. विचारणीय बहुत उम्दा सृजन,,,, यशवंत जी बधाई,,,

    recent post हमको रखवालो ने लूटा

    ReplyDelete
  7. विचारणीय रचना...आवाज तो उठानी ही चाहिए...

    ReplyDelete
  8. संवेदनशील प्रस्तुति ..आभार!

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!