प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

13 June 2013

रेत जैसी उम्मीद

(1)

उम्मीद
सिर्फ रेत जैसी होती है
जो बिखरी रहती है
किनारों पर
जिसे 
कोई कलाकार
ढाल देता है भले ही
कभी महलों के रूप में
कभी किलों
या किसी मूरत के रूप में
पर
वास्तविकता
और सच्चाई की हवा का
एक हल्का सा झोंका
ढहा देता है
रूपवती कल्पना को
हो जाती है
पहले जैसी ही
मिल जाती है
खुद के ही आधार में
उम्मीद की रेत।

(2)

उम्मीद की रेत
जिस की नींव पर
टिकी है दुनिया
कभी बिखरती है
कभी उठती है 
कभी कामयाब होती है
कभी निराश होती है
फिर भी घूमती रहती है गोल
मीलों दूर
टिमटिमाते सूरज के
लगाती रहती है चक्कर
उसे पाने की
असफल चाहत लिये
लेकिन उसकी तपिश को
खुद में महसूस करती
यह दुनिया ........
उम्मीद की रेत पर टिकी
यह दुनिया ...
क्या यूं ही
डगमगाती रहेगी ?
आखिर कब तक ?

~यशवन्त माथुर©

6 comments:

  1. कहने में असमर्थ लिखूँ क्या ....
    अपनी बेबसी ....

    ReplyDelete
  2. वाह क्या बात है बहुत सुन्दर यशवन्त 

    ReplyDelete
  3. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार(15-6-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर और प्रभावी प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  5. वाह क्या बात है ...!!!

    ReplyDelete
  6. क्‍या बात है..बहुत सुंदर लि‍खा है रेत पर

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!