प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

10 November 2010

ज़िन्दगी

(फोटो:गूगल से साभार )

 ज़िन्दगी
कुछ लोगों के लिए
हसीं किताब होती है
और कुछ लोग
पलटते रहते हैं
काले स्याह पन्नों को
क्योंकि 
सच की कालिख 
कभी मिटती नहीं है.



12 comments:

  1. यशवंत भाई, जिंदगी को करीब से देखा है आपने, तभी इतनी सटीक बात कही।

    ---------
    इंटेली‍जेन्‍ट ब्‍लॉगिंग अपनाऍं, बिना वजह न चिढ़ाऍं।

    ReplyDelete
  2. सच तो सदा ही सचेत करता रहता है...
    उसे कौन बिसार सका है!

    ReplyDelete
  3. सच की कालिख कभी मिटती नहीं है...

    वाह, बहुत खूब।

    ReplyDelete
  4. सच की कालिख
    कभी मिटती नहीं है.
    बहुत सुंदर...बहुत अर्थपूर्ण.....

    ReplyDelete
  5. ज़िन्दगी
    कुछ लोगों के लिए
    हसीं किताब होती है
    और कुछ लोग
    पलटते रहते हैं
    काले स्याह पन्नों को
    क्योंकि
    सच की कालिख
    कभी मिटती नहीं है.

    Very nice.

    .

    ReplyDelete
  6. 'सच की कालिख
    कभी मिटती नहीं है'
    सत्य वचन ,
    बहुत खूब !

    ReplyDelete
  7. क्योंकि
    सच की कालिख
    कभी मिटती नहीं है'
    ...........सत्य वचन
    बेहद ख़ूबसूरत और उम्दा

    ReplyDelete
  8. सच की कालिख
    कभी मिटती नहीं है.
    ...kam hi shabdon me kamal ki baat kah di aapne.

    ReplyDelete
  9. सुन्दर रचना!
    इस पोस्ट की चर्चा चर्चा मंच पर भी है!
    http://charchamanch.blogspot.com/2010/11/335.html

    ReplyDelete
  10. आदरणीय जाकिर जी,अनु जी,महेंद्र जी,मोनिका जी,दिव्या जी,अल्पना जी,संजय जी,संगीता जी,अरविन्द जी एवं शास्त्री जी--बहुत बहुत धन्यवाद आप के उत्साहवर्धन के लिए.

    शास्स्त्री जी-चर्चा मंच मेरी इन पंक्तियों को स्थान देने के लिए आप का विशेष आभार.

    ReplyDelete
  11. बेहद सशक्त भाव लिए हुए. सही कहा आपने सच कि कालिख मिटती नहीं.

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!