प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

28 March 2012

कभी कभी .........


कभी कभी
लगता है
जैसे
अपने जाल मे फंसा कर
भूख वक़्त
कर रहा हो शिकार
भावनाओं का
और कभी कभी
ऐसा भी लगता है
जैसे
बुढ़ाती भावनाएँ
आत्महंता बन कर
खुद को फंसा रही हैं
वक़्त के फंदे में
अंत सुनिश्चित है
आज नहीं तो कल।

24 comments:

  1. अंत तो सुनिश्चित ही है ..
    सुन्दर

    ReplyDelete
  2. vakt kitana daravana hota hai...koi bachaav nahi ...:(

    ReplyDelete
  3. अंत तो सुनिश्चित है... मगर राह के काँटों संग खुशियाँ भी सुनिश्चित हैं! शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  4. अंत सुनिश्चित है... इसे ही तो कहते है culmination
    सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  5. अंत सुनिश्चित देह का, कहते श्री यशवंत ।
    अजर-अमर है आत्मा, ग्यानी गीता संत ।।

    क्षमा करें महोदय / महोदया ।
    अनर्गल भाव न निकालें इस तुरंती का ।
    मैंने ध्यान से पढ़ा आपकी उत्कृष्ट रचना ।
    बस यही ।।

    ReplyDelete
  6. वाह !!!!! बहुत सुंदर रचना,बेहतरीन भाव अभिव्यक्ति,

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: तुम्हारा चेहरा,

    ReplyDelete
  7. कुछ दिनों से अपनी उपस्थिति नहीं दे पा रही हूँ ,कंप्यूटर खराब हो गया है ..
    बहुत सुन्दर लिखा है आपने..बेहतरीन भाव..
    kalamdaan.blogspot.in

    ReplyDelete
  8. सच है हमारी भावनाएं आत्महंता बन कर वक्त के फंदे में खुद उलझ जाती है और फिर अंत तो अवश्यम्भावी है... सारगर्भित रचना, बधाई.

    ReplyDelete
  9. अंत तो निश्चित ही है ...फिर भी सब उलझते रहते हैं ... गहन अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  10. अति सुन्दर बहुत ही बढ़िया प्रस्तुति...
    सार्थक
    दिनेश पारीक
    मेरी नई रचना
    कुछ अनकही बाते ? , व्यंग्य: माँ की वजह से ही है आपका वजूद:
    http://vangaydinesh.blogspot.com/2012/03/blog-post_15.html?spref=bl

    ReplyDelete
  11. गहन भाव लिए ..बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  12. कभी कभी
    लगता है
    जैसे
    अपने जाल मे फंसा कर
    भूख वक़्त
    कर रहा हो शिकार
    भावनाओं का...gahan bhaav vykt karti rachna

    ReplyDelete
  13. भावनाओ का ये फंदा अपनी ही गर्दन पर कसता चला जाता है ।

    ReplyDelete
  14. अंत सुनिश्चित है, आज नहीं तो कल...
    फिर भी जीवन के हर रंग सुन्दर हैं, बहुत सुन्दर... शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  15. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति भी है,
    आज चर्चा मंच पर ||

    शुक्रवारीय चर्चा मंच ||

    charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  16. गहन भावनाएं ....आत्महंता बन अंत कि ओर देखने लगाती हैं ...
    सटीक अभिव्यक्ति ...!!

    ReplyDelete
  17. सच कहा आपने।
    सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  18. गहराई भरी बात,वो भी सरलता से...बधाई...

    ReplyDelete
  19. गहन भावो को बहुत ही सरलता और सुन्दरता से अभिव्यक्त किया है....सुन्दर..

    ReplyDelete
  20. वाह यशवंत भाई ... एक सम्पूर्ण काव्य

    ReplyDelete
  21. जैसे
    बुढ़ाती भावनाएँ
    आत्महंता बन कर
    खुद को फंसा रही हैं
    वक़्त के फंदे में
    अंत सुनिश्चित है
    आज नहीं तो कल।
    sunder bhav
    rachana

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!