प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

20 May 2012

पत्थर का साथ

चित्र साभार- http://hardinutsav.blogspot.in
इंसान की फितरत से
पत्थर का साथ अच्छा है .....
सिर्फ देखता है एक टक ,
सुनता है -समझता है....
न छल है उसमे कोई
न कोई तमन्ना है ...
लहरों से टकराना है..
टूटना है बिखरना है ....
फिर अंजाम की क्या फिकर...
कि इंसान भी टूटकर
बिखरता है एक दिन .....
एक जज़्बात से टूटता है
दूसरा लहरों मे बिखरता है ।

[ मेरी आदत है कुछ लिंक्स को फेसबुक पर शेयर करने की। स्वप्नगंधा जी की शायरी वाले एक लिंक पर स्वाति वल्लभा जी की एक टिप्पणी के उत्तर मे मैंने (17 मई को) उपरोक्त पंक्तियों को लिखा था।  ]

<<<<<यशवन्त माथुर >>>>

25 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. बहुत ही सुन्दर...आप अपनी आदत मत बदलियेगा...अच्छी आदत है....पत्थर दिल इंसानों से मौनधारी पाषाण ही बेहतर है....

    ReplyDelete
  2. और हमेशा दूसरों के काम आता है ...चाहे बुत बना के पूज लो ..या फेंकर तोड़ दो .....

    ReplyDelete
  3. इंसान की फितरत भी इसलिए कभी-कभी पत्थर सा हो जाता है .... !!
    उम्दा अभिव्यक्ति .... !!

    ReplyDelete
  4. इन्सान भी पत्थर की तरह टूटता है, बिखरता है... सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  5. इंसान की फितरत से
    पत्थर का साथ अच्छा है .....
    हाँ सही कहा आपने पत्थर इंसानों के तरह फितरत नहीं बदलता ..
    बहुत बढ़िया जज्बात ...सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर यशवंत....

    सस्नेह.

    ReplyDelete
  7. ese hi comment karte rahiye... :)

    ReplyDelete
  8. आभार |
    बढ़िया प्रस्तुति ||

    ReplyDelete
  9. ये तो सच है ... पत्थर से चोट लगे तो बात समझ में आती है , पैर इंसान के चोगे में इंसान ! हैरानी होती है

    ReplyDelete
  10. very nice Yashwant ji :)

    ReplyDelete
  11. bahut acchha likha hai yashwant ji aapne!

    ReplyDelete
  12. सुन्दर.....बस जज़्बात पत्थर न होने पाएं ।

    ReplyDelete
  13. बहुत सही यशवन्त......सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  14. बहुत ही बढिया प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  15. bahut hi sundar bhav bhari rachna

    ReplyDelete
  16. Bahut hi sundar bhav bhari rachna

    ReplyDelete
  17. बहुत ही सुन्दर विचार

    ReplyDelete
  18. बहुत बढ़िया प्रस्तुति....
    गहन विचार..

    ReplyDelete
  19. पत्थर के मन में छुपे भावों को बखूबी पढ़ा है आपने
    विशेष रूप से अन्तिम दो पंक्ति .....मनमोहक
    आभार

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!