प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

25 July 2012

खुली किताब

समझता हूँ खुद को
एक खुली किताब
जिसका हर पन्ना
रंगा है
आड़ी तिरछी 
स्याह सफ़ेद
लकीरों से
और
बीच बीच में उभरते 
अनाम सा चेहरा बनाते
कुछ छींटे
कुछ धब्बे
खट्टी मीठी
यादों को साथ लिये
घूर रहे हैं
अगले
खाली पन्नों को।


©यशवन्त माथुर©

24 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. अगले पन्नों और हर्फ़ के लिए तलाशती जिंदगी , खुबसूरत ही नहीं लाजवाब

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर
    अगले खली पन्ने खुबसूरत यादो और बातो से भरे..
    शुभकामनाये :-)

    ReplyDelete
  3. कुछ छींटे
    कुछ धब्बे
    खट्टी मीठी
    यादों को साथ लिये
    घूर रहे हैं
    अगले
    खाली पन्नों को।
    वाह बहुत सुन्दर ...बहुत अच्छे भाव संयोजन

    ReplyDelete
  4. वो जानते हैं कि ये भी यूँ ही रंगे जायेंगे कल..या परसों....

    सस्नेह

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  6. चलना तो निरंतर है ...यादों को साथ रखिए ...

    ReplyDelete
  7. यादों के बिना भी क्या ज़िन्दगी--- बहुत सुन्दर।

    ReplyDelete
  8. वाह ... बहुत बढिया।

    ReplyDelete
  9. जिंदगी की हर किताब में उनका चेहरा ही नज़र आता है अक्सर ...
    यादें जो कभी जाती नहीं ...

    ReplyDelete
  10. खुली किताब की तरह हो यह जीवन तो बहुत खुशनसीबी है...सुंदर भाव!

    ReplyDelete
  11. चलते रहिये अगले पन्ने खूबसूरत...
    रंगों के हों ...सुंदर यादों के हों ...शुभकामनायें..

    ReplyDelete
  12. बहुत खूब, खली पन्ने भी खुबसूरत रचनाओं से भर जायेंगे |

    ReplyDelete
  13. समय इन पन्नों को भरता चलता है. जिनकी किताब खुली है वहाँ जो भी दिखता है वह साफ और चमकीला होता है. इन पन्नों का कोई अंत नहीं.

    ReplyDelete
  14. सुन्दर अभिव्यक्ति, बधाई.

    ReplyDelete
  15. बेहतरीन अभिव्यक्ति,,सुंदर प्रस्तुति,,बधाई यशवंत जी

    RECENT POST,,,इन्तजार,,,

    ReplyDelete
  16. कोरे पन्ने भी किसी की खुशबू से महकेंगे... :)

    ReplyDelete
  17. समझता हूँ खुद को
    एक खुली किताब
    जिसका हर पन्ना
    रंगा है
    आड़ी तिरछी
    स्याह सफ़ेद
    लकीरों से.....
    खुली किताब ही दुनिया को रोशन कर पाती है ....आभार

    ReplyDelete
  18. har kore panne par ek nayi kahani hogi

    ReplyDelete
  19. यशवंत जी नमस्कार...
    आपके ब्लॉग 'जो मेरा मन कहे' से कविता भास्कर भूमि में प्रकाशित किए जा रहे है। आज 29 जुलाई को 'खुली किताब...' शीर्षक के कविता को प्रकाशित किया गया है। इसे पढऩे के लिए bhaskarbhumi.com में जाकर ई पेपर में पेज नं. 8 ब्लॉगरी में देख सकते है।
    धन्यवाद
    फीचर प्रभारी
    नीति श्रीवास्तव

    ReplyDelete
  20. bahut hi achha likha hai
    shubhkamnayen

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!