प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

15 July 2012

जिंदगी ये भी है


जिंदगी ये भी है कि, सीख कर ककहरा
लिख दूँ इबारत, एक मुकम्मल तस्वीर की

जिंदगी ये भी है कि, खाक छान कर गलियों की
जला कर शाम को चूल्हा, तस्वीर देखूँ तकदीर की

हूँ उलझन में बहुत ,जलते चराग देख कर
रोशन हैं अरमां कहीं ;कहीं सिसकते राख़ बन कर 

जिंदगी ये भी है कि ,महलों की बदज़ुबानी के साये तले
बगल की बस्ती में, बाअदब गुलाब महकते हैं। 


©यशवन्त माथुर©

23 comments:

  1. ज़िंदगी के पहलू बहुत शिद्दत से उकेरे हैं ....बहुत भाव प्रबल रचना बनी है ...!!
    बधाई एवम शुभकामनायें...यशवंत .

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन अंदाज़..... सुन्दर
    अभिव्यक्ति........

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर यशवंत.....
    बहुत सुन्दर ख़याल............

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  4. जिंदगी ये भी है कि ,महलों की बदज़ुबानी के साये तले
    बगल की बस्ती में, बाअदब गुलाब महकते हैं। ......वाह: बहुत भावपूर्ण रचना..बहुत सुन्दर...यशवंत

    ReplyDelete
  5. जिंदगी ये भी है कि ,महलों की बदज़ुबानी के साये तले
    बगल की बस्ती में, बाअदब गुलाब महकते हैं।
    लाज़वाब रचना... बधाई

    ReplyDelete
  6. जिंदगी ये भी है.... :)

    ReplyDelete
  7. हूँ उलझन में बहुत ,जलते चराग देख कर
    रोशन हैं अरमां कहीं ;कहीं सिसकते राख़ बन कर
    बहुत उम्दा....

    ReplyDelete
  8. ज़िन्दगी के इतने सारे रंग समेट लिए ......... शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  9. जिंदगी ये भी है कि ,महलों की बदज़ुबानी के साये तले
    बगल की बस्ती में, बाअदब गुलाब महकते हैं।
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .... !

    ReplyDelete
  10. सुन्दर भाव लिए रचना यशवंत जी..

    ReplyDelete
  11. वाह ... बेहतरीन भाव

    ReplyDelete
  12. हूँ उलझन में बहुत ,जलते चराग देख कर
    रोशन हैं अरमां कहीं ;कहीं सिसकते राख़ बन कर
    Bahut sundar rachna...

    ReplyDelete
  13. हूँ उलझन में बहुत ,जलते चराग देख कर
    रोशन हैं अरमां कहीं ;कहीं सिसकते राख़ बन कर
    bahut sundar rachna..

    ReplyDelete
  14. भिन्न भिन्न रूपों में साँस लेती ज़िंदगी...सुंदर प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  15. जिंदगी ये भी है कि, सीख कर ककहरा
    लिख दूँ इबारत, एक मुकम्मल तस्वीर की

    जिंदगी ये भी है कि, खाक छान कर गलियों की
    जला कर शाम को चूल्हा, तस्वीर देखूँ तकदीर की

    संगीत और शब्दों का जादू एक साथ .....
    वाह ....!!

    ReplyDelete
  16. वाह बहुत खूबसूरत अहसास हर लफ्ज़ में आपने भावों की बहुत गहरी अभिव्यक्ति देने का प्रयास किया है.बधाई आपको.सादर वन्दे...
    बहुत बहुत शुभकामनाएं ।
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/

    ReplyDelete
  17. सुन्दर अभिव्यक्ति .....यशवंत जी

    ReplyDelete
  18. जिंदगी ये भी है कि ,महलों की बदज़ुबानी के साये तले
    बगल की बस्ती में, बाअदब गुलाब महकते हैं।
    sach hai, bahut khoob likha hai.

    shubhkamnayen

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!