प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

28 July 2012

सोच रहा हूँ

अभी अभी फेसबुक पर यह चित्र देखा ;इसे देख कर जो मेरे मन ने कहा ,वह प्रस्तुत है- 

साभार : फेसबुक 

















मन की कलम में
बादलों की स्याही भर कर
सोच रहा हूँ
कुछ लिख दूँ
आसमां के पन्ने पर 

कुछ ऐसा
जो उड़ कर मिट न पाए
कुछ ऐसा जो
हर पल नज़र आए
कुछ ऐसा कि
जिसे पढ़ कर
कोई हँसे तो
कोई रोए
जी भर कर

सोच रहा हूँ
कुछ लिख दूँ
आसमां के पन्ने पर 

©यशवन्त माथुर©

31 comments:

  1. बहुत सुन्दर..

    ReplyDelete
  2. too gud yeshwant bhai ... mai bhi kuch aisa hi soch raha hu abhi

    ReplyDelete
  3. मन की कलम में
    बादलों की स्याही भर कर
    सोच रहा हूँ
    कुछ लिख दूँ
    आसमां के पन्ने पर

    उम्दा भाव ... बहुत सुन्दर ..

    ReplyDelete
  4. लिखो यशवंत...........
    इन्द्रधनुष ज़रूर उगेगा....
    सस्नेह

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर रचना.. बधाई.

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर सोच है..... बधाई!

    ReplyDelete
  7. विस्तृत नभ सा विस्तार लिये ...बहुत सुंदर रचना ...!!

    ReplyDelete
  8. जब सोच के ही इतना अच्छा लग रहा है , तो लिखना तो और भी खूबसूरत होगा ......... शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  9. सोच रहा हूँ
    कुछ लिख दूँ
    आसमां के पन्ने पर... bhaut hi khubsurat soch rahe h....likh hi daliye....

    ReplyDelete
  10. लिखिए....और कुछ ऐसा लिखिए...
    कि बादलों में भरा नीर बरस जाए...
    और जब सिमटें...तो धूप सुनहरी खिल जाए...

    ReplyDelete
  11. बहुत खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
  12. आसमान पर लिखा आपने अपने जुबान की बातें ..सुन्दर

    ReplyDelete
  13. अच्छा है , खूब लिखो दिल की कलम से दूसरों के दिलों पर |

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति,,,,यशवंत जी,,,,

    RECENT POST,,,इन्तजार,,,

    ReplyDelete
  15. कुछ ऐसा
    जो उड़ कर मिट न पाए
    कुछ ऐसा जो
    हर पल नज़र आए

    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर ख्याल है यशवंत जी..
    लिख दीजिये आसमान के पन्नो पर
    भर दीजिये सुनहरे रंग उसमे...
    :-) ;-) :-) :-)

    ReplyDelete
  17. लिख दूँ आसमान के पन्नो पर अपनी ख्वाइशे
    उड़ेल दूँ सारी इक्षाए...
    ताकि जब भी चले पवन अपनी तेज
    गति से..
    शायद कुछ ख्वाइशे पहुँच जाये
    उस खुदा तक...
    और पूरी हो जाये सभी कामना...
    :-) :-) :-)

    ReplyDelete
  18. bahut badhiya aur gaharai liye hue ...bahut khoob sir !!

    reh na jaye koi kona baki
    har taraf likh jau main saqi
    kuch duayein ho
    kuch khwaishein ho
    kuch armaanon ka samndar
    kuch arzoo pyari pyari !!

    ReplyDelete
  19. मन की कलम में
    बादलों की स्याही भर कर
    सोच रहा हूँ
    कुछ लिख दूँ
    आसमां के पन्ने पर

    man ki kalam, badalon ki syahi aur asman panne.... Wah ... adbhut ...! bahut hi khoobsurat kalpana....

    Manju

    ReplyDelete
  20. सुन्दर अभिव्यक्ति है ।

    ReplyDelete
  21. बहुत बढिया ।

    ReplyDelete
  22. बहुत बढ़िया ..........

    ReplyDelete
  23. बहुत अच्छा लिखा है

    ReplyDelete
  24. आसमां के पंखों पे स्वप्नों की गाथा लिख दो ...
    बहुत खूब ... उम्दा रचना ...

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!