प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

14 March 2021

सिर्फ प्यास दिखती है....

चित्र:काजल सर की फ़ेसबुक वॉल से साभार 
हलक 
जब सूखता है 
सिर्फ 
प्यास दिखती है... 
जहाँ से आती हैं 
ठंडी हवाएँ 
वहीं 
एक आस दिखती है... 
फिर वह घर 
दुश्मन का ही क्यों न हो 
अंजुली भर जीवन की 
हर लहर खास दिखती है... 
प्यास, 
प्यास ही होती है 
सूखती देह को तो 
हर बाकी 
श्वास दिखती है..
लेकिन अब, 
आधुनिक भारत के लोगों की 
कमजोर नज़रों से 
सारी दुनिया 
'विश्व गुरु' के मूल्यों का 
ह्रास देखती है।   

-यशवन्त माथुर ©
14032021 

4 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. हम भारतीय ही स्वयं का मज़ाक उड़ाते हैं , क्या कहें ,
    गंभीर लेखन

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  3. जो विश्वगुरु बनने की क्षमता रखता है, कभी रख सका है या कभी रख सकेगा वह भारत के अलावा कोई हो ही नहीं सकता, सनातन धर्म की नींव यहीं रखी गयी थी, भले ही उस पर कितनी परत पड़ गई हो, सार्थक लेखन !

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!