प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

11 October 2010

किसी अनजान के लिए......

बहारों तुमसे एक तमन्ना है मेरी
मेरे जिस्म के कतरे कतरे पर उनका नाम लिख दो
और उन से कह दो कि
मैं बहुत प्यार करता हूँ  उनको.
वो आते हैं रोज़ ख्यालों में ख़्वाबों में
चूम कर चले जाते हैं मेरे अधरों को
मैं फैलाता हूँ अपनी बाहें
उन्हें समेटने को
मगर छिटक कर कहीं दूर चले जाते हैं वो
ए बहारों ज़रा उन से कह देना ये भी एक बात
जाने क्यों इतना सताया करते हैं वो...
बस यही एक  आखिरी  तमन्ना है ओ  बहारों
जिस राह से वो गुजरें  वहीँ पे बिछ जाया करूँ मैं.


(मैं मुस्कुरा रहा हूँ..)

10 comments:

  1. बेहद खूबसूरत प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  2. बस यही एक आखिरी तमन्ना है ओ बहारों
    जिस राह से वो गुजरें वहीँ पे बिछ जाया करूँ मैं..बड़ी खूबसूरत बात कही....बधाई. कभी 'शब्द सृजन की ओर' भी आयें.

    ReplyDelete
  3. बहारों तुमसे एक तमन्ना है मेरी
    मेरे जिस्म के कतरे कतरे पर उनका नाम लिख दो

    बहुत ही सुंदर कविता...आखिरी पंक्तियां भी बहुत सुंदर है... इतनी खूबसूरत तमन्ना!!!खुदा खै़र करे...बहुत अच्छी लगी...

    ReplyDelete
  4. बहुत खूबसूरत तमन्ना है।

    ReplyDelete
  5. भगवान् करे आपकी यह तमन्ना पूरी हो जाए... सुन्दर पंक्तियाँ...

    मेरे ब्लॉग पर इस बार

    एक और आईडिया....

    ReplyDelete
  6. बहुत पसन्द आया
    हमें भी पढवाने के लिये हार्दिक धन्यवाद
    बहुत देर से पहुँच पाया ............माफी चाहता हूँ..

    ReplyDelete
  7. bahut khub pasand aayi aapki rachna

    ReplyDelete
  8. I am very much thank full for all who like this specially-Respected Veena ji,Divya ji,Vandana ji,shekhar ji,sanjay ji & Deepti ji.

    ReplyDelete
  9. i like this..keep it up. tum to pure kavi ban gaye

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!