प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

20 October 2010

तुम्हारी तलाश में.

देख चुका हूँ
हर कहीं
तुम को
ढूंढ चुका हूँ
हर जगह-
पर तुम
कहीं नहीं हो
तो कहाँ हो तुम?
क्यों ये अक्स
तुमने छोड़ रखा
मानस पर
क्यों ये राग तुमने
छेड़ रखा
जीवन साज पर
ये कैसा आकर्षण
तुम्हारे प्रति
ये कैसा चिंतन
तुम्हारे प्रति
प्रति क्षण
तुम्हारे सामीप्य की आस में
भटक रहा हूँ
तुम्हारी तलाश में.


22 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. सुन्‍दर शब्‍द रचना ।

    ReplyDelete
  2. सुन्‍दर रचना !!!

    ReplyDelete
  3. भई किस की तालाश है.....
    यहाँ ( शब्दों का उजाला) पर तो हम रब को तलाश रहे हैं !!

    ReplyDelete
  4. तुम्हारे सामीप्य की आस में
    भटक रहा हूँ
    तुम्हारी तलाश में.

    ...बहुत खूबसूरत भाव...बधाई.

    ReplyDelete
  5. यश अच्छे लोग कहीं भी मिलें अच्छा ही लगता है. आपसे शब्दों के ज़रिये मुलाकात हुई अच्छा लगा, आप मेरे ब्लोग पर आये अच्छा लगा, आपके ब्लोग पर आकर और आपके बारे में जान कर और भी अच्छा लगा. आशा करती हूँ ये सिलसिला बना रहेगा. आभार !

    ReplyDelete
  6. तो कहाँ हो तुम?
    क्यों ये अक्स
    तुमने छोड़ रखा
    मानस पर
    क्यों ये राग तुमने
    छेड़ रखा
    जीवन साज पर
    ये कैसा आकर्षण
    तुम्हारे प्रति

    बहुत सुंदर पंक्तियां...बधाई

    ReplyDelete
  7. कभी-कभी खुद भी समझ नहीं आता...कि क्या तलाश है। कविता वाकई अच्छी है...

    ReplyDelete
  8. मनोभावों को उकेरती एक बेहतरीन रचना.....

    ReplyDelete
  9. talaash puri ho....
    rachnatmak safar chalta rahe!
    sundar rachna!
    shubhkamnayen!

    ReplyDelete
  10. अच्छा लिखा है .मुस्कुराते रहिये.

    ReplyDelete
  11. आदरणीया सदा जी,दिव्या जी,हरदीप जी,प्रतिमा जी,मोनिका जी,अनुपमा जी,शिखा जी,एवं आदरणीय यादव जी आप सभी को बहुत बहुत धन्यवाद.

    वीना जी-अपने सुपुत्र (मेरे दोस्त) की बीमारी के बावजूद आप ने मेरे ब्लॉग पर आने के लिए समय निकाला;ये बहुत बड़ी बात है.मैं कामना करता हूँ की वो जल्दी से पूरी तरह ठीक हो.

    प्रतिमा जी-बिलकुल ये सिलसिला अब यूँ ही बना रहेगा.

    ReplyDelete
  12. ारे बच्चा अभी से भटकने लगे? काम की ओर ध्यान दो। हा हा हा। वैसे कविता अच्छी लगी। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  13. प्रति क्षण
    तुम्हारे सामीप्य की आस में
    भटक रहा हूँ


    bahut achhe bol hain.

    bahut bahut aabhar..

    ReplyDelete
  14. आदरणीया निर्मला जी एवं हिमांशु जी,आप का बहुत बहुत धन्यवाद,

    ReplyDelete
  15. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल 16-- 11 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज ...संभावनाओं के बीज

    ReplyDelete
  16. ये कैसा आकर्षण
    तुम्हारे प्रति
    ये कैसा चिंतन
    तुम्हारे प्रति
    प्रति क्षण
    तुम्हारे सामीप्य की आस में
    भटक रहा हूँ
    तुम्हारी तलाश में.kafi achchhi panktiyan.....

    ReplyDelete
  17. सुंदर अभिव्यक्ति,,संगीत के साथ अच्छा लगा
    तलाश अपनी अपनी है, ..इसलिए रचना के अर्थ भी अपने ही है .....मनोभाव की एकसारता ...सुंदर .

    ReplyDelete
  18. प्रति क्षण
    तुम्हारे सामीप्य की आस में
    भटक रहा हूँ
    तुम्हारी तलाश में.
    very nice .....

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर रचना यशवंत जी ! शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  20. kuch waqt lag gaya blog par aane mein par aapki rachna bahut hi sunder hai........ye talaash to hamesha hi jari rahegi:)

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!