प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

08 April 2012

वक़्त की कैद मे ..............

वक़्त की कैद मे
रहते हुए भी
मैं बेखबर हूँ
सलाखों के अंदर की
इस दुनिया से
बिलकुल वैसे ही
जैसे
रंगबिरंगी मछलियाँ
मस्त रहती हैं 
एक्वेरियम की
दीवारों के चारों ओर।

41 comments:

  1. वाह!! बहुत खूब..ऐसे ही मस्त रहिये..समय को हावी न होने दें.. :)

    ReplyDelete
  2. मस्त ही रहना चाहिए यश्वन्त ! जिन्दगी बहुत कीमती है .बहुत.सुन्दर..

    ReplyDelete
  3. मस्त रहती हैं
    एक्वेरियम की
    दीवारों के चारों ओर।
    ........गजब कि पंक्तियाँ हैं ...!!!

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर ...
    जीवन जैसा चल रहा है चलेगा ...
    ख़ुशी ढूंढ लेना बड़ी बात है ...

    ReplyDelete
  5. पिछले कुछ दिनों से अधिक व्यस्त रहा इसलिए आपके ब्लॉग पर आने में देरी के लिए क्षमा चाहता हूँ...

    ....... रचना के लिए बधाई स्वीकारें यशवंत भाई !

    ReplyDelete
  6. कुछ बातों से अनजान ही रहना बहुत ज़रूरी होता है जीने के लिए...

    ReplyDelete
  7. सलाखें सब के साथ हैं......
    कभी समय की,कभी परिस्थितियों,समाज,काम,रिश्ते....
    न जाने कितनी अदृश्य सलाखें हैं ..
    कुछ अपनी..कुछ परायी...
    और हम इसी में खुश रहना सीख लेते हैं.....!!

    ReplyDelete
  8. यही तो फलसफा है जीवन का जीने का ,ज़िंदा दिली का .

    ReplyDelete
  9. सुंदर रचना के लिए बधाई.

    ReplyDelete
  10. जब कोई चारा न हो तो फिर खुश रहना और दिखना ही पड़ता है ... यही नियति है ..
    बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  11. अच्छी प्रस्तुति,

    ReplyDelete
  12. बंधन को स्वीकार करने में ही भलाई है :))

    ReplyDelete
  13. At thought without vision always invincible,it always confine itself . amazing..

    ReplyDelete
  14. बिलकुल सही ।



    आभार ।।

    ReplyDelete
  15. जीना इसी का नाम है... सुन्दर भाव

    ReplyDelete
  16. जीवन का फलसफा है इसी में खुश रहना है .
    सुन्दर भाव

    ReplyDelete
  17. bekhabar rahne mein hi fayda hai :)...nice poem

    ReplyDelete
  18. वक़्त की कैद से पार पाना मुश्किल तो है, लेकिन जो कर जाय, उसने ज़िन्दगी जी ली...
    सुन्दर अभिव्यक्ति यशवंत जी,
    सादर

    ReplyDelete
  19. अच्छा फलसफा है यशवंत....................

    मुस्कुराते रहो.....हर हाल में........

    सस्नेह

    ReplyDelete
  20. रंगबिरंगी मछलियाँ
    मस्त रहती हैं
    एक्वेरियम की
    दीवारों के चारों ओर।
    बेहतरीन भाव पुर्ण प्रस्तुति,सुन्दर रचना...

    RECENT POST...काव्यान्जलि ...: यदि मै तुमसे कहूँ.....
    RECENT POST...फुहार....: रूप तुम्हारा...

    ReplyDelete
  21. सुंदर रचना के लिए बधाई.

    ReplyDelete
  22. नए बिम्ब .... अच्छी रचना

    ReplyDelete
  23. अनोखा बिम्ब, बेहद अर्थपूर्ण रचना, बधाई.

    ReplyDelete
  24. बेहतरीन रचना ....

    ReplyDelete
  25. ......बहुत खुशनसीब हैं आप !!!!

    ReplyDelete
  26. behtarin rachana...
    khush rahiye,,,,mast rahiye.....

    ReplyDelete
  27. वाह....बहुत खूबसूरत लगी पोस्ट....शानदार।

    ReplyDelete
  28. वाह ...बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  29. सभी की एक सी स्थिति है!

    ReplyDelete
  30. लाज़वाब ! बहुत सटीक अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  31. अच्छी प्रस्तुति के लिये बहुत बहुत बधाई....

    ReplyDelete
  32. अच्छी प्रस्तुति के लिये बहुत बहुत बधाई....

    ReplyDelete
  33. reality ko darshati sundar rachna ...

    ReplyDelete
  34. मुक्ति की गुहार अच्छी लगी...
    सादर...!

    ReplyDelete
  35. This poem is really nice and true too.

    ReplyDelete
  36. wah kya kahane ....bahut sargarbhit vicharon ka chayan ...badhai mathur ji

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!