प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

27 April 2012

गनीमत है

बौर बन चुके आम
कीमत बस खास की है
सोच का काम तमाम
आज़ादी बकवास की है। ......
पढ़ना वढ्ना मैं न जानूँ
लढना भिड़ना जानूँ मैं
दोस्त कोई न नाता मेरा
कीमत पूरी मांगू मैं । .........
मैं मैं- मैं मैं
चें चें- पें पें
क्या लिख रहा हूँ
पता नहीं है
झेलने वाले झेल रहे हैं
क्या कहेंगे समझ नहीं है । ........
पेन टूट गया ,खो गयी डायरी
की बोर्ड की अब चढ़ी खुमारी
खटर पटर पर ब्लोगिंग श्लौगिंग
नशा है कोई या अजब बिमारी । .....
किसी को टेढ़ा टेढ़ा लगता
किसी को सीधा सधा सा अक्षर
चश्मा नाक पे चढ़ा मोटा सा
भगा नहीं सकते बैठा मच्छर। .....
हम तो ऐसे ही हैं भैया
शून्य शान सी कीमत है
पढ़ कर पके नहीं अगर आप
अपने लिये यही  गनीमत है
आपके हाथ मे छुपा जो  बैठा
उस टमाटर की कीमत है । :))))


27 comments:

  1. गनीमत है इन्ही में आशावादी अर्थ ढूंढ लेते हैं... और फिर बकवास कुछ भी नहीं रहता :)

    ReplyDelete
  2. :-)

    लिखते चलो........खुशी खुशी झेल रहे हैं.....
    खटर-पटर जारी रहे....

    सस्नेह.

    ReplyDelete
  3. अच्‍छा है इन शब्‍दों का भाव भी .. .मन को बहलाता हुआ :)

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर ।

    बधाई स्वीकारें ।।

    ReplyDelete
  5. मन को छू लेने वाली रचना.

    ReplyDelete
  6. आपकी रचना हमेशा की तरह खुबसूरत है यशवंत जी ....

    ReplyDelete
  7. समझने वाले अपने-अपने दिमागी स्तर से समझ गए ..... कोशिश करने वालो की हार नहीं होती .... छोटे-मोटे रोड़े तो आते ही रहते हैं .....

    ReplyDelete
  8. खुबसूरत रचना...बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  9. hahaha...wah kya khoob likha hai...abhi tamatar ki jaruart nahin hai kyonki aapne behad achcha likha hai so hamara comment sweekar karen :)

    मत भेद न बने मन भेद- A post for all bloggers

    ReplyDelete
  10. at least मन को रम ही रहा है .......वो ही जरूरी भी है !

    ReplyDelete
  11. "हम तो ऐसे ही हैं भैया
    शून्य शान सी कीमत है
    पढ़ कर पके नहीं अगर आप
    अपने लिये यही गनीमत है"
    गुदगुदाती सी रचना ! :)
    हम तो नहीं पके भैया...:))

    ReplyDelete
  12. indira mukhopadhyay ✆
    10:11 AM (8 hours ago)

    to me
    Bahut majedar,net per yahi laabh hai haath me tamater hote hue bhi nahi phek sakte,phir keemat bhi yaad dila di aapne. Jaise hain vaise hi rahiye yahi to khasiyat hai

    ReplyDelete
  13. वाह ! हमेशा की तरह बहुत सुंदर ...

    ReplyDelete
  14. बढ़िया प्रयास ...
    लिखते रहें ...
    शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  15. जो भी है, बहुत अच्छा हैं...

    ReplyDelete
  16. सच में ही गनीमत हैं .......

    ReplyDelete
  17. एक कवि ही है
    जो हर गम में मुस्कुरा सकता है
    और मुस्कुरवा भी सकता है

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!