प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

22 April 2012

पृथ्वी दिवस पर.......

बुद्धिजीवियों की
कालोनी से गुजरते
उस रस्ते पर
मैंने देखा
कोलतार की
वह सड़क
चौड़ी
की जा रही थी
बूढ़े पेड़ों को
उनकी
औकात बताई जा रही थी
और उस किनारे
पार्क से
आ रही थी आवाज़--
सड़क के
सामने वाले घर मे
गुज़र करने वाले
सज्जन
माइक पर
कर रहे थे आह्वान
पृथ्वी को बचाने का
पृथ्वी दिवस मनाने का।


19 comments:

  1. पृथ्वी को बचाने का
    पृथ्वी दिवस मनाने की

    सुंदर प्रस्तुति,बहुत बढ़िया रचना.....

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...:गजल...

    ReplyDelete
  2. आपकी रचना ने वास्तविक स्थितियों पर कटाक्ष करते हुए सुन्दर सन्देश प्रेषित किया है!

    ReplyDelete
  3. पर्यावरण सुरक्षा के प्रति सवेंदनशील बनाती एक अच्छे कविता है |

    ReplyDelete
  4. पृथ्वी को बचाने का आह्वान आप से बेहतर कौन कर सकता है

    ReplyDelete
  5. पृथ्वी दिवस की सुभ कामनाएं , सामयिक समीचीन प्रसंग ....

    ReplyDelete
  6. पेड़ कटे तालाब पटे,
    अब जंगल से सटते जाते |
    कंक्रीट की दीवारों में,
    पल पल हम पटते जाते |

    आबादी का बोझ नही जब,
    सह पाती छोटी सड़कें -
    कुर्बानी पेड़ों की होती
    बार बार कटते जाते ||

    ReplyDelete
  7. दिखावे का ज़माना है...स्वार्थी लोगों के बोझ से पृथ्वी के कंधे झुके जा रहे हैं....

    सार्थक रचना यशवंत.....
    सस्नेह.

    ReplyDelete
  8. बस भाषण में ही धरती बचाने की गुहार होती है असलियत तो कुछ और ही होती है ... अच्छी रचना ॥

    ReplyDelete
  9. बिल्कुल सही कहा आपने...सब कुछ भाषणबाजी तक ही सीमित है.

    ReplyDelete
  10. ठीक वैसे ही जैसे वृक्षारोपण होता है इन लोगों का ...फोटो खिंचाई पौधे के साथ और फिर पौधे रामभरोसे !

    ReplyDelete
  11. vilkul sahi kaha Yashvant.aaj kal yahi horaha hai..sundar rachana..

    ReplyDelete
  12. वाह ...बहुत ही बढि़या।

    ReplyDelete
  13. waah yashwant bahut hi accha.

    ReplyDelete
  14. कथनी और करनी में हमेशा फर्क होता है। भाषण देना तो बहुत आसान है मगर कही गयी बात पर अमल करना शायद भाषण देने वालों के लिए बहुत मुश्किल होता है। सार्थक रचना....समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है http://mhare-anubhav.blogspot.co.uk/

    ReplyDelete
  15. ye lines....save trees ka add ban sakti h.... bohot pyara likha h :)

    ReplyDelete
  16. सुन्दर कटाक्ष...
    पूर्ण सहमत हूँ नुपूर जी की टिप्पणी से..
    सादर

    ReplyDelete
  17. काश वह 'बुद्धजीवी ' अपनी ही बात का मर्म समझ पाते.....काश !!!!!!

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!