प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

14 April 2012

मुलाक़ात कर लूँ

 शुरू की 5 लाइन्स को कल मैंने फेसबुक स्टेटस बनाया था...आज न जाने किस धुन मे यह बढ़ता चला गया और सामने आया इस बेतुके रूप मे ----

कदमों के निशां छोड़ कर
जो गयी है कहीं दूर.....
सोच रहा हूँ
आज उस रूह से
एक मुलाक़ात कर लूँ....
उस की अनसुनी आहट का
एक एहसास यूं तो हुआ था
गहरी नींद में ,जब मैं सोया हुआ था
ये न मालूम था कि ,ठहरेगी नहीं
लौट जाएगी
सिरहाने पे ,बेरूखी छोड़ जाएगी 
वो दूर पहले भी थी
वो दूर आज भी है
न जाने कौन सा किरदार
खबरदार आज भी है
फितूर है या कुछ और कि
बीते कल के साथ चलूँ
सोच रहा हूँ
आज उस रूह से
मुलाक़ात कर लूँ। 


29 comments:

  1. manobhav kab kisi madhyam se baahar nikal aaye kuch tay nahi rahta...bahut badiya rachna..

    ReplyDelete
  2. बड़ी बेतुकी बात है, प्रियवर कवि-यशवंत ।

    क़दमों के पाए निशाँ , क्यूँ चूके श्रीमंत ।

    क्यूँ चूके श्रीमंत, बढ़ो चिन्हों पर आगे ।

    कर जीवन-पर्यंत, भाग्य उद्यम से जागे ।

    रविकर सच्ची रूह, ढूंढता हरदम जिसको ।

    मुलाक़ात कर जाय, पकड़ ले जल्दी उसको ।।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर यशवंत............
    तुक में नहीं मगर बेतुका कतई नहीं है................
    :-)

    सस्नेह.

    ReplyDelete
  4. .एक प्रवाहमयी तुक कृति बनती गई..बहुत सुन्दर .. यशवन्त

    ReplyDelete
  5. न जाने कौन सा किरदार
    खबरदार आज भी है...waah
    बहुत ही नाजुक अहसासों को लिए सुन्दर
    रचना

    ReplyDelete
  6. एक बार तो मैं आपकी कविता में बह गया था लेकिन रविकर जी की पंक्तियों ने ज़मीन पर ला खड़ा किया. उनकी बात पर ग़ौर करें. वैसे कविता सुंदर है.

    ReplyDelete
  7. कभी कभी शब्द बस यूहीं कलम से सरकते जाते हैं .....और कविता का सर्जन हो जाता है ...और कभी कभी सर्जन में प्रसव की सी पीड़ा से गुज़रना पड़ जाता है....लेकिन तब भी मन नहीं भरता ......आपकी कविता उस पहली केटेगरी की उपज है .....अविरल बहती सी ...किसी धारा सी ..

    ReplyDelete
  8. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  9. रूह से मुलाक़ात .... सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  10. कभी कभी मन की बात बेतुकी तो लगती है पर कुछ ना कुछ तो लिंक होता है मन से तभी निकल आती हैं लफ़्ज बनकर ..............

    ReplyDelete
  11. Replies
    1. वाह! बहुत खुबसूरत एहसास पिरोये है आपने.

      Delete
  12. अतीत में झाकना ... एक तरह से mahlam होता है .... अगर अतीत ने घाव दिए हो तब

    ReplyDelete
  13. बहुत ही खूबसूरत अभिव्यक्ति है !

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  15. क्या बात है
    बहुत बढिया यशवंत

    ReplyDelete
  16. बीते हुवे कल के साथ चलने से मुलाक़ात तो तय ही है ... बहुत खूब ... दिल के जज्बात उतारे हैं ...

    ReplyDelete
  17. रूह से मुलाकात हो ही जाये अब...

    ReplyDelete
  18. वाह,वाह क्या बात है .... !!
    बेतुक वाली ऐसी तो तुक वाली कैसी .... ??

    ReplyDelete
  19. सुन्दर प्रस्तुति है

    ReplyDelete
  20. वाह ...बहुत ही बढि़या।

    ReplyDelete
  21. Sundar...sundar...sundar...

    ReplyDelete
  22. मेल पर प्राप्त -

    indira mukhopadhyay

    10:05 PM

    to me

    Bilkul betuka nahi,bade khubsurat roop me samne aaya hai,sundar khayal hai.

    ReplyDelete
  23. मन के भावो को उद्वेलित करती सुन्दर रचना...
    कुछ बहुत ही खास गहराई है इस रचना में....

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!