प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

05 January 2013

कुछ प्रश्न

कुछ प्रश्न
हमेशा
सिर्फ प्रश्न ही रहते हैं 
क्योंकि
उनके उत्तरों में लगा
प्रश्न चिह्न
कभी मिटने नहीं देता
अपना अबूझ
अस्तित्व!

©यशवन्त माथुर©

13 comments:

  1. सुन्दर प्रस्तुति अनुत्तरित यक्ष प्रश्नों में उलझती जा रही है जिंदगी ,उत्तर सभी प्रश्नों के देना संभव है ही नही

    ReplyDelete
  2. शुभप्रभात बेटे :))

    कुछ प्रश्न अनुत्तरित ही रह जाते हैं !!

    शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  3. प्रश्न होते ही हैं उत्तर खोजने के लिए हाँ ये अलग बात है कि उनके उत्तर हमारे लायक या समसामयिक न हों लेकिन आज तक ऐसा कोई प्रश्न नहीं बना जिसका हल न हो>>>>>>>>>

    ReplyDelete
  4. बढ़िया प्रस्तुति |
    बधाई ||

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर आभार..

    ReplyDelete
  6. क्योंकि सच का भय बहुत बुरा होता है यशवंत भाई. एक सवाल पूछिए और सौ सवालों से बना उत्तर हाज़िर. सही देखा और किया है आपने.

    ReplyDelete
  7. जिनके उत्तर में ही प्रश्नवाचक चिन्ह लग जाते हों वो प्रश्न प्रश्न ही रह जाते है।
    छोटी लेकिन लाजवाब प्रस्तुती।
    recent poem : मायने बदल गऐ

    ReplyDelete
  8. हाँ कुछ प्रश्नों के हल नहीं होते, या हल किये ही नहीं जाते हैं, कुछ सवाल. जैसे आज खड़ा है एक सवाल सर उठाकर... गहन भाव

    ReplyDelete
  9. जब प्रश्न ही न रहे तभी उत्तर मिलता है..वरना हर उत्तर एक प्रश्न ही है..सुंदर प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (06-01-2013) के चर्चा मंच-1116 (जनवरी की ठण्ड) पर भी होगी!
    --
    कभी-कभी मैं सोचता हूँ कि चर्चा में स्थान पाने वाले ब्लॉगर्स को मैं सूचना क्यों भेजता हूँ कि उनकी प्रविष्टि की चर्चा चर्चा मंच पर है। लेकिन तभी अन्तर्मन से आवाज आती है कि मैं जो कुछ कर रहा हूँ वह सही कर रहा हूँ। क्योंकि इसका एक कारण तो यह है कि इससे लिंक सत्यापित हो जाते हैं और दूसरा कारण यह है कि किसी पत्रिका या साइट पर यदि किसी का लिंक लिया जाता है उसको सूचित करना व्यवस्थापक का कर्तव्य होता है।
    सादर...!
    नववर्ष की मंगलकामनाओं के साथ-
    सूचनार्थ!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  11. इन्ही प्रश्नों में जिंदगी उलझती जाती और तमाम उम्र गुजर जाती है...

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!