प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

15 August 2013

स्वतन्त्रता दिवस पर


सच बोलो तो जेल मिलेगी
झूठ बोलो तो आज़ादी
ईमानदारी की ऐसी तैसी
बेईमान काटते हैं चाँदी

कटोरा हाथ मे लिये फिरता बचपन
लोट लगाता सड़कों पर  
जब भी देखता चमक दमक
तब रोता अपनी किस्मत पर

आती जाती हर नारी को
घूरती नज़रें खा जाने को
दुर्योधन सब बने घूमते
नहीं कृष्ण लाज बचाने को 

फुटपाथों पर जिंदगी मिलती
कूड़े के ढेर पर आज़ादी
जन गण मन की इसी धुन पर
कहीं विलासिता कहीं बर्बादी

फिर भी आज है जश्न
अरे देखो नयी गुलामी का
जो पाया सब खो दिया
मोल न समझा कुर्बानी का।

~यशवन्त माथुर©

18 comments:

  1. नवीन शुभप्रभात बेटे
    स्वतन्त्रता दिवस की
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  2. सही कहा मोल न समझा कुर्बानी का..... स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें .....

    ReplyDelete
  3. अत्यन्त हर्ष के साथ सूचित कर रही हूँ कि
    आपकी इस बेहतरीन रचना की चर्चा शुक्रवार 16-08-2013 के .....बेईमान काटते हैं चाँदी:चर्चा मंच 1338 .... पर भी होगी!
    सादर...!

    ReplyDelete
  4. हुआ तो यही है .... जो दुखद है ...

    ReplyDelete
  5. बहुत बढिया..स्वतन्त्रता दिवस की
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  6. खुबसूरत अभिवयक्ति...... आपको भी स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक मंगलकामनाएँ....

    ReplyDelete
  7. बहुत बढिया....स्वतन्त्रता दिवस की
    हार्दिक शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  8. फुटपाथों पर जिंदगी मिलती
    कूड़े के ढेर पर आज़ादी ..

    सच तो यही है ... देश के हालात इतने सालों बाद भी ऐसे हैं ...
    स्वतंत्रता दिवस की बधाई और शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  9. स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  10. सार्थक रचना

    ReplyDelete
  11. स्वतन्त्रता दिवस की
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  12. आज की बुलेटिन स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई ....ब्लॉग बुलेटिन में आपकी पोस्ट (रचना) को भी शामिल किया गया। सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  13. सार्थक रचना...
    स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएँ...
    :-)

    ReplyDelete
  14. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक मंगलकामनाएँ

    ReplyDelete
  15. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक मंगलकामनाएँ

    ReplyDelete
  16. ये कैसी आजादी ...? हिंदुस्तान का चरित्र चित्रण लाजवाब बन पड़ा है।

    ReplyDelete
  17. फुटपाथों पर जिंदगी मिलती
    कूड़े के ढेर पर आज़ादी
    जन गण मन की इसी धुन पर
    कहीं विलासिता कहीं बर्बादी

    यथार्थ को बयान करती स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक मंगलकामना

    ReplyDelete
  18. फिर भी आज है जश्न
    अरे देखो नयी गुलामी का
    जो पाया सब खो दिया
    मोल न समझा कुर्बानी का।
    बिलकुल सही …. सटीक

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!