प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

03 August 2013

उजली राहों के किनारे पर ......

उजली राहों के किनारे पर
अँधेरों की उस बस्ती में
घुटनों चलती है जिंदगी
मुस्कुराते  हुए

मैं हर रोज़ गुज़रता हूँ
भलमनसाहत का लबादा ओढ़ कर 
डालता हूँ एक नज़र
मुंह छुपाते हुए 

कोई देख न ले मुझे
उन कच्चे ढलानों पर
उतर कर जाते हुए
लौट कर आते हुए

उजली राहों के किनारे पर
अँधेरों की उस बस्ती में
प्यास से जूझती है जिंदगी
भूख बिताते हुए। 

~यशवन्त माथुर©

8 comments:

  1. bahut gehri va sachchi baat kahi hai, sunder abhivyakti

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  2. हम सब यही करते हैं.....

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर पोस्ट
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  4. तो रोज की बातें हैं कह पायें कि न कह पायें किन्तु आपने man ko टटोल दिया

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुन्दर लिख है आपने, मेरे ब्लॉग पर आकर हौसला बढ़ाने के लिए धन्यवाद !

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर लिख है आपने, मेरे ब्लॉग पर आकर हौसला बढ़ाने के लिए धन्यवाद !

    ReplyDelete
  7. उजली राहों का स्याह लिखती संवेदना!

    ReplyDelete
  8. Jaise Kanch ka saman the or gir gaye hum or khud banane fir gaye hum....

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!