प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

04 August 2013

अर्थ के अर्थों में..........

अर्थ के अर्थों में, उलझा हुआ है आदमी
निरर्थ होकर अर्थ पर, सोया हुआ है आदमी
जाने किन स्वप्नों में, व्यर्थ खोया हुआ है आदमी
अनर्थ कर रहा अर्थ,अर्थ पर लोटता हुआ आदमी।

[अर्थ->मतलब ,धन और धरती (earth) के संदर्भ में]


 ~यशवन्त माथुर©

7 comments:

  1. सच ही अर्थ के अर्थो में उलझा हुआ है आदमी....
    बहुत बढ़िया ......

    ReplyDelete
  2. अर्थ के अर्थ या अर्थ का चाव ... पर आदमी अनर्थ जरूर कर रहा है ... लाजवाब भाव ...

    ReplyDelete
  3. आदरणीय अर्थ , धर्म, काम और मोक्ष की प्राप्ति के लिये अर्थ ही प्रथम सीढ़ी है

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया ......

    ReplyDelete
  5. Jawabon me sawal ko kholta hua aadami,

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!