प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

17 August 2013

वह रास्ता अब बंद है

पिछली बार
जब गुज़रा था उस रास्ते से
उस से हो कर गुजरती थी
एक लंबी चौड़ी सड़क
जिसके दोनों किनारे
लगे थे
नीम और बरगद
आते जाते
कभी कभी
रुक जाया करता था
पाने को छांव
या कभी
बचने को
बरसात से
आज फिर चाहा
उसी रास्ते से
अपनी मंज़िल को जाना
पर जा नहीं सका
वह रास्ता अब बंद है
और उसकी जगह मौजूद है
बहुमंज़िला इमारत
जिसके भीतर
हर दिन होता है
ईमान का
मोल तोल। 

~यशवन्त माथुर©

12 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी का लिंक कल रविवार (18-08-2013) को "नाग ने आदमी को डसा" (रविवासरीय चर्चा-अंकः1341) पर भी होगा!
    स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. बहुमंजिली इमारतें कहाँ से दे पाएंगी कभी रास्तों एवं छाँव का सुकून!
    तोल मोल में कुछ बचता कहाँ है!

    ReplyDelete
  3. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. bahut khoob likha hai, ek katu satya jeevan ka.

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुन्दर पंक्तियाँ लिखी है यशवंत भाई आपने. अंत बहुत अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  6. सही कहा ..सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  7. वास्तविकता है ....
    सुन्दर और बेहतरीन रचना...
    :-)

    ReplyDelete
  8. Bohot h kadwa sach h zindgi ka...maaf kijiyega bde din baad yaha aa payi....

    ReplyDelete
  9. क्योंकि अब यही चलता है...सटीक बात

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर रचना ...वास्तविक ...यशवंत जी

    ReplyDelete
  11. आजकल ऐसी इमारतें ही रास्ता रोके हैं, बेइमान इमारतें.

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!