प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

17 July 2015

नहीं चाहता....

बीत चुके जो नज़ारे
फिर देखना नहीं चाहता ।
कह जो दिया एक बार
फिर कहना नहीं चाहता ।
मुझे पता है
क्या तुम्हारे मन में है
और क्या मेरे मन में है 
मन के मान जाने के बाद
फिर और मनाना नहीं चाहता।

~यशवन्त यश©

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

+Get Now!