प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

24 March 2013

ज़बरदस्ती

कभी कभी
कुछ सवाल
ज़बरदस्ती के लगते हैं
और उनके जवाब भी
देने पड़ते हैं
ज़बरदस्ती ही ।
क्योंकि
मन
न होने पर भी
इच्छा
न होने पर भी 
बचना मुश्किल होता है
ज़बरदस्ती के
अनचाहे सवालों से
और
उससे भी कठिन होता है
तलाशना
ज़बरदस्ती के
ज़बरदस्त जवाबों को ।
मैंने पढ़ा तो नहीं
मनोविज्ञान
पर अब उत्सुकता है
ज़बरदस्ती की
मानसिकता को
समझने की।

~यशवन्त माथुर©

11 comments:

  1. अनछुआ विषय पर कविता.. बहुत खूब

    ReplyDelete
  2. अनछुआ विषय पर कविता.. बहुत खूब

    ReplyDelete
  3. अनछुआ विषय पर कविता.. बहुत खूब

    ReplyDelete
  4. जबरदस्ती का मनोविज्ञान निःसंदेह मानसिक असंतुलन की अवस्था है. और हम सभी को कभी न कभी इससे रूबरू होना ही होता है. गहरी सोच-समझ की रचना, शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  5. बहुत सही कहा है आपने आपको होली की हार्दिक शुभकामनायें शख्सियत होने की सजा भुगत रहे संजय दत्त :बस अब और नहीं . .महिला ब्लोगर्स के लिए एक नयी सौगात आज ही जुड़ें WOMAN ABOUT MAN

    ReplyDelete
  6. सही कहा आपने कभी - कभी हमें न चाहते हुए भी कुछ सवालों के जवाब देने पड्तें हैं ...

    ReplyDelete
  7. ज़बरदस्ती की
    मानसिकता को
    समझने की।
    बात नहीं सब के वश की
    शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  8. कभी कभी अनचाहे सवालों का भी सामना करना ही पड़ता है,बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  9. जीवन में ऐसे बहुत से मौके आते है जब न चाहते हुए भी कुछ काम करने पड़ते है इसे ही तो समझौता कहते हैं -विचारनीय विषय है
    latest post भक्तों की अभिलाषा
    latest postअनुभूति : सद्वुद्धि और सद्भावना का प्रसार

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर...होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  11. उससे भी कठिन होता है
    तलाशना
    ज़बरदस्ती के
    ज़बरदस्त जवाबों को ।

    अनचाहा प्रेम ही क्यों न हो सब कुछ अटपटा ही लगता है

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!