प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

25 March 2013

क्षणिका

अगर
जिंदगी का मैच
फिक्स होता 
हर पल का हिसाब
पता होता
तो तस्वीर का रुख
कुछ दूसरा होता।
~यशवन्त माथुर©

8 comments:

  1. काश ऐसा होता ...बेहतरीन अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  2. बिलकुल !!
    होली की शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    रंगों के पर्व होली की बहुत-बहुत हार्दिक शुभकामंनाएँ!

    ReplyDelete
  4. सुंदर भावपूर्ण सहजता से कही गयी गहरी बात
    बहुत बहुत बधाई
    होली की शुभकामनायें




    ReplyDelete
  5. हर पल का हिसाब
    पता होता
    तो तस्वीर का रुख
    कुछ दूसरा होता।

    .बेहतरीन अभिव्यक्ति.होली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  6. तो तस्वीर का रुख
    कुछ दूसरा होता !!!

    ReplyDelete
  7. रंगों का पर्व आपकी खुशियों को हज़ार गुना कर दे, होली की शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  8. सुन्दर भाव पूर्ण रचना

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!