प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

19 March 2013

क्षणिका

काश
इंसान पंछी होता
तो उड़ता रहता
बेपरवाह
सरहदों की फिक्र
किए बिना ।
~यशवन्त माथुर©

6 comments:

  1. ख़याल सुन्दर है ...!!!

    ReplyDelete
  2. बहुत सही कहा..

    ReplyDelete
  3. सरहदों की फिक्र
    किए बिना । bahut sunder sarthak

    ReplyDelete
  4. सरहद की जरुरत
    तब शायद
    होती भी नहीं ......
    शुभकामनायें !!

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!