प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

22 May 2020

हसरत पूरी हो उसे पा जाने की.....(राहुल श्रीवास्तव)

ऐसा नही है कि मुझमें ताक़त नही थी, 
किस्मत बदल पाने की। 
हौसले के साथ आसमानों से, 
आगे उड़ जाने  की। 

समझ न पाया मंजिलें 
या समझ  न थी समझाने  की। 
कुछ ग़लतियाँ मेरी ही थीं, 
कुछ दूसरों के बदल जाने की। 

मुकद्दर  मेरा ठहरा हुआ है अभी, 
वो आ जाए शायद एक दिन....
और हसरत पूरी हो उसे पा जाने की। 

-राहुल श्रीवास्तव ©
लखनऊ । 

(रचनाकार एक प्रतिष्ठित कंपनी में वरिष्ठ अधिकारी हैं)

1 comment:

  1. जब मंजिल की समझ आ जाएगी, समझाने की कला भी आ ही जाएगी, अपनी गलतियों को जो स्वीकार लेता है,उसे दूसरों के बदलने की फ़िक्र नहीं सताती ... और किस्मत उसके हाथ में होती है हर पल

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!