प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

09 January 2011

यादें

बहुत खामोशी से
दिल को झकझोर देती हैं यादें
जाने क्यों इतनी कठोर होती हैं यादें
मैं भूलने की कोशिश तो करता हूँ
पर कुछ भूल नहीं पाता हूँ
क्यों इतना कमजोर अक्सर
बना देती हैं यादें                                    
                                                        
कुछ खट्टी,कुछ मीठी
कुछ बोलती,कुछ शांत सी
बीते पलों को खरोंचती
क्यों कुलबुलाती हैं यादें

कभी खुशी की छटा बन कर
कभी गम की घटा बन कर
बहुत याद आती हैं यादें
अक्सर रूलाती हैं यादें.

20 comments:

  1. यशवंत भाई, बहुत अच्‍छा लगा आपकी यादों से गुजरना।

    ---------
    पति को वश में करने का उपाय।

    ReplyDelete
  2. कभी खुशी की छटा बन कर
    कभी गम की घटा बन कर
    बहुत याद आती हैं यादें
    अक्सर रूलाती हैं यादें.

    बहुत बढिया, यशवन्त जी !

    टूट जाता हर रिश्ता,यहां बिसरने के बाद है,
    एक रिश्ता जो नही टूटता कभी, वो यद है।

    ReplyDelete
  3. यही तोहैं जो साथ नहीं छोडतीं।

    ReplyDelete
  4. बीते पलों को खरोचती
    क्यों कुलबुलाती हैं यादें ..
    सच इन यादों की पूंजी सबसे बड़ी है !

    ReplyDelete
  5. एक रिश्ता जो नही टूटता कभी, वो यद है।

    ReplyDelete
  6. ऐसी ही होती हैं यादें...सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  7. कभी खुशी की छटा बन कर
    कभी गम की घटा बन कर
    बहुत याद आती हैं यादें
    अक्सर रूलाती हैं यादें.
    bahut achchhi lagi

    ReplyDelete
  8. yaade to yaade hai ....
    always with us //
    beautiful composition //
    hindi font kaam nahi kar raha yashwant ji //

    ReplyDelete
  9. कभी बहुत हंसती हैं यादे ,
    तो कभी रुला भी देती हैं यादे !
    एहसासों से असल परिचय करवा देती हैं यादे !
    बहुत सुन्दर कविता !
    बधाई दोस्त !

    ReplyDelete
  10. बीते पलों को खरोचती
    क्यों कुलबुलाती हैं यादें
    यही तो है जो कोई हमसे छीन नहीं सकता

    ReplyDelete
  11. Ye yaaden hain Yashvant ji .. aasaani se peecha nahi chodti hain ... ljawaab likha hai ...

    ReplyDelete
  12. सुन्‍दर भावमय करते शब्‍द ।

    ReplyDelete
  13. इन पंक्तियों को पसंद करने के लिए आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद.

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर कविता !
    बधाई....!

    ReplyDelete
  15. यशवंत रसबतिया का रसिक बनने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद आपका स्वागत है रसभरी बातों में आपके ब्लॉग का नाम अच्छा लगा -- जो मेरा मन कहे . अपने मन की कहने का ब्लॉग से अच्छा और क्या माध्यम हो सकता है

    ReplyDelete
  16. yaade yesi hi hoti hain jo bar bar yaad aati hain
    sunder rachna...
    ....
    mere blog par
    "main"

    ReplyDelete
  17. भावुक रचना ........शुभकामनायें

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!