प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

18 January 2011

शायद रूठ गयी है गौरय्या

[चित्र साभार:गूगल]
बचपन में
रोज़ सुबह मैं
आसमां को ताका करता था
और देखा करता था
झुण्ड के झुण्ड
अनोखी आकृतियाँ बनाकर
उडती जाती चिड़ियों को
उनमे से कुछ आ जातीं
उतर आतीं
मेरे घर के हाते में
नीम्बू के पेड़ पर
दिन भर सुनातीं
अपना संगीत
जाड़े की धूप में
बाहर फैली हरी दूब पर
आपस में अठखेलियाँ करतीं
नन्हीं गौरय्या

कभी कभी मैं
शरारत में
किचन में जाकर
चावल के डब्बे में से ले आता
मट्ठी  भर कर दाने
और बिखेर देता
बाहर

एक एक करके
ढेर सारी
चिड़ियाँ आकर के
चुगती एक एक दाना
और पल भर में फुर्र हो जातीं

लेकिन
अब न बचपन है
और न गौरय्या

शायद रूठ गयी है
गौरय्या
अब नज़र नहीं आती
गौरय्या

13 comments:

  1. वक्त के साथ सब बदल जाता है।

    ReplyDelete
  2. लेकिन
    अब न बचपन है
    और न गौरय्या
    शायद रूठ गयी है
    गौरय्या
    अब नज़र नहीं आती
    गौरय्या
    ......मन के कोने में दबी एक आवाज ...भूली बिसरी यादों के बीच ..कितना बदल जाता है सबकुछ वक्त के साथ..
    सुन्दर चिंतनशील प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. यथार्थमय सुन्दर पोस्ट
    कविता के साथ चित्र भी बहुत सुन्दर लगाया है.

    ReplyDelete
  4. सच में अब आँगन में फुदकने वाली गौरैया कहीं नज़र नहीं आती...... बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  5. एक वरिष्‍ठ साहित्‍यकार ने आपसी बातचीत में कहा कि घरों में जाली लगा कर मच्‍छरों तक को तो रोक दिया है, गौरइया कहां से आए.

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी रचना... पढ़कर अहसास हुआ कि शायद सच में रूठ गयी गौरय्या...

    ReplyDelete
  7. पर्यावरण ही बदल गया है ...आज कहाँ मिलती है गौरिया ..

    ReplyDelete
  8. पक्षियों की कई प्रजातियाँ लुप्त हो रही हैं.गौरैय्या का लुप्त होना भी उनमें से एक है.आपकी चिंता वाजिब है

    ReplyDelete
  9. सच में रूठ गयी गौरय्या...
    बहुत अच्छी रचना...!!

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर रचना, लेकिन यह चिडिया सच मे अब नही दिखाई देती, पहले तो हम तंग हो जाते थे इस के शोर से गर्मियो मे हमारे घर के रोशनदान मे जरुर इस का घोसला बनता था

    ReplyDelete
  11. इन पंक्तियों को पसंद करने के लिए आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद.

    @कविता जी आपने सच कहा...इन पंक्तियों में बिलकुल सच्ची बातों को अभिव्यक्त किया है.

    ReplyDelete
  12. सही लिखा है । पहले तो गौरैया ही हमें नींद से जगाती थी । अब मशीनी जीवन की तरह हम जागते भी अलार्म घड़ी से हैं ।

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!