प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

20 September 2010

मधुशाला...

आज फिर मन मचल रहा है
मय का प्याला पीने को
दबी छुपी कुछ बातें मन की
मधुशाला में कहने को
दुनिया में कोई नहीं है
मेरी थोड़ी सुनने वालाअपनी कुछ न कहती मुझ से
सुनती मुझ को मधुशाला.

6 comments:

  1. बहुत ही अच्छा आग़ाज़...और बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  2. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. मधुशाला तक तो ठीक है पर ये मधु ठीक नहीं

    ReplyDelete
  4. आदरणीया वीना जी,भास्कर जी और प्रिय माधव बहुत बहुत धन्यवाद.

    ReplyDelete
  5. सुन्दर पंक्तियाँ...शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  6. आदरणीया दिव्या जी ,बहुत बहुत धन्यवाद.

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!