प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

16 September 2010

चाय का प्याला

सहता है तपन
पर डिगता नहीं है
थकान में चूर हो जाता है,
पर हिलता नहीं है
चाय का प्याला!
किसी महापुरुष की तरह,
प्रेरणा देता है,
झंझावातों में भी
स्थिर,अटल रहने की
चाय हो या कोई और
गरम द्रव पदार्थ
अणुओं की टकराहट सहता,
और दिखाता है यथार्थ
हार होगी तुम्हारे दुश्मनों की,
तैयार रहोगे यदि,
सहने को हर वार
कुछ पल में ठन्डे पड़ जाएँगे 'वो'
चाय की ही तरह
और तुम मनाओगे
जीत का जश्न,
चाय के प्याले की तरह..
 
विशेष:-मुझे याद नहीं ये कविता मैंने बचपन में कब लिखी थी,किन्तु अपनी मम्मी के विशेष आग्रह पर उनकी पसंद की ये कविता आप सब के साथ साझा कर रहा हूँ.
 

8 comments:

  1. क्या कहा ? यह कविता आपने बचपन में लिखी थी ।

    मजाक न करो जी ।

    बहुत अच्छी लगी आपकी कविता ।

    ReplyDelete
  2. विवेक जी,
    ये मजाक नहीं सच है,आठ साल की उम्र में पापा को लेख लिखते देख कर मैंने सोचा कि पापा तो लेख लिखते हैं,क्यों न मैं कविता लिखूं और तब से कुछ न कुछ जो मन में आता है लिख ने की कोशिश कर रहा हूँ.
    इस पोस्ट के प्रकाशित होने के मात्र ५ मिनट के भीतर आप की त्वरित टिप्पणी के लिए दिल से शुक्रिया.

    ReplyDelete
  3. अले वाह, कित्ती सुन्दर कविता..बधाई.

    ______________

    'पाखी की दुनिया' में आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
  4. मेरी प्यारी पाखी
    तुम पंख पसारे मेरे ब्लॉग पर आयी मुझे बहुत अच्छा लगा.
    जानती हो मुझे भी तुम जैसे छोटे छोटे बच्चों से बहुत प्यार है,तुम मुझ से बहुत छोटी हो इसलिए आशीर्वाद भी है ही.
    मैं भी तुम्हारे ब्लॉग पर आया था बहुत अच्छा लगा.बहुत जल्द ही तुम्हारी drawings पर लिख ने कि कोशिश करूँगा.

    with my heartfelt love to you--

    Yashwant

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी लगी आपकी कविता

    ReplyDelete
  6. Itani sundar kavita aapane bachapan me hi likhadi...accha kiya jo mammi ka kaha mana
    bhadiya lagi...Shubhkaamnaaen

    ReplyDelete
  7. आदरणीया रानी जी,
    सात समुन्दर पार से मेरा उत्साह बढाने के लिए आप को तहे दिल से शुक्रिया.

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!