प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

10 September 2010

हम तो चले थे ख्वाबों में........

हम तो चले थे ख्वाबों में
खुद को ही ढूँढने
रूह मिली राह में पर
उसको पहचान ही न सके
ज़ख़्मी दिल में उठी हूक चुभीली सी इक
कब हुआ दर्द हम जान ही न सके
रहबर से मिलन की ख़ुशी का समां
एक हो रहे थे ये ज़मीं आसमा
ज़मीं पे ज़नाज़ों की बहुत भीड़ थी
हम अपने ही ज़नाजे को पहचान न सके.
हम तो चले थे ख्वाबों में
खुद को ही ढूँढने
पर ख्वाबों से बहार न आ ही सके
आह ले रहे थे खुछ लोग गम से सिहर कर
मगर हम तो दोज़ख का
मज़ा पा रहे थे।

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

+Get Now!