प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

13 February 2013

अब मोमबत्तियाँ नहीं जलेंगी .....

Google Image Search
अब मोमबत्तियाँ नहीं जलेंगी
न ही कुछ लिखा जाएगा
न लोग इकट्ठे होंगे
न लगेंगे मुर्दाबादी नारे
क्योंकि जिंदाबादों की यह बस्ती

आबाद है
अवसरवादी मुखौटों से!


©यशवन्त माथुर©

(इलाहाबाद रेलवे स्टेशन की घटना पर मेरी यह प्रतिक्रिया संजोग अंकल के फेसबुक स्टेटस पर टिप्पणी में है।)  

17 comments:

  1. सार्थक चिंतन के साथ एक सशक्त प्रस्तुति ! शुभकामनाएं यशवंत जी !

    ReplyDelete
  2. बिलकुल उचित प्रतिक्रिया है आपकी!

    ReplyDelete
  3. बिल्कुल सही कहा नहीं जलेंगी मोमबतियाँ

    ReplyDelete
  4. क्योंकि जिंदाबादों की यह बस्ती
    आबाद है
    अवसरवादी मुखौटों से!

    खूब कही.... सटीक

    ReplyDelete
  5. ~उस शोर में भी हम सब शामिल थे...
    इस खामोशी में भी हम सब शामिल हैं....~
    'कुंभ मेले' में भी दुर्घटना घटी... और ये कोई पहली बार नहीं हुआ ! दुख तो यही है... कि ये सब दुर्घटनाएँ यहाँ-वहाँ घटती रहतीं हैं मगर इसके लिए कोई ठोस क़दम नहीं उठाया जाता, अच्छा इंतज़ाम नहीं किया जाता जिससे अगली बार ऐसा कुछ दुखद ना हो... :(
    ~God Bless!!!

    ReplyDelete
  6. सही कहा नहीं जलेंगी मोमबतियाँ

    ReplyDelete
  7. sach ,par n jane kab nijat milegi in awasarwadi mukhoton se,

    ReplyDelete
  8. आपकी यह प्रस्तुति पढ़कर ...प्रेमचंदजी की एक कहाँ याद आ गयी .."ब्रह्म का स्वांग ".....

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!