प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

03 February 2013

कैसे कह दूँ उन बातों को ?

अक्स बन कर अक्षर अक्षर
कहता मन के जज़्बातों को
फिर भी जो अब बची रह गईं
कैसे कह दूँ उन बातों को ?

बातों का आधार बड़ा है
बातों पर संसार खड़ा है
कोई होता विचलित पल में
कोई अंगद पाँव अड़ा है ।

बिखरी बिखरी बातें अक्सर
बनती  भाषा,लिपि या अक्षर 
और जो कुछ भी बन न सकीं तो
कैसे खोलूँ मन के पाटों को

कैसे कह दूँ उन बातों को ?
 

©यशवन्त माथुर©

9 comments:

  1. कुछ बातें मन के अन्दर ही अच्छी. सुन्दर रचना यशवंत भाई.

    ReplyDelete
  2. अक्स बन कर अक्षर अक्षर
    कहता मन के जज़्बातों को
    फिर भी जो अब बची रह गईं
    कैसे कह दूँ उन बातों को ?....बहुत सुन्दर भाव ..सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
  3. वाह! बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  4. सच है हर बात कही नहीं जाती ...

    ReplyDelete
  5. "कैसे खोलूँ मन के पाटों को"
    सच ! ये घुटन जान पर बन आती है। सुंदर कविता के लिए बधाई !

    ReplyDelete
  6. जो शेष है जो कहने में नहीं आया वही तो महत्वपूर्ण है..आभार!

    ReplyDelete
  7. बेहतर रचना- बेहतर प्रस्तुति.
    डा. रघुनाथ मिश्र्

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!