प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

24 February 2013

क्षणिका

कुछ नहीं में
कुछ ढूँढता हुआ 
पा रहा हूँ खुद को
आईने के सामने :)


©यशवन्त माथुर©

5 comments:

  1. :)) अच्छा है! कभी-कभी इस तरह भी खुद से मुलाक़ात हो जाती है...
    ~God Bless!!!

    ReplyDelete
  2. सही कहा. खुद को भी खोजना पड़ता है

    ReplyDelete
  3. कुछ नहीं में बहुत कुछ पाया है..
    क्यूंकि खुद को पाया है...

    ReplyDelete
  4. बेहद ज़रूरी है आत्मविश्लेषण....

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  5. हर कोई यहाँ बस अपनी ही तलाश में ..यूँ आइनों से टकराता फिरता है!

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!