प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

02 February 2013

'साहब' और 'वह'.......(लघु कथा)

जीवन के सफ़र में राही
मिलते हैं बिछुड़ जाने को
और दे जाते हैं यादें
तन्हाई में तड़पाने को .......

किसी ज़माने में किशोर का गाया यह नगमा गुनगुनाते हुए वह अपनी ही धुन में चला जा रहा था......काले मैले कपड़े.....जिन्हें सदियों से धोया न गया हो.....वह कौन था या है....पता नहीं....बस इन्सानों जैसा एक चेहरा....जिस पर खिंची हुई थीं.....भूख की आड़ी तिरछी लकीरें ...न जाने क्यों उसे देख कर.... कभी किसी की और बढ़ने में शर्माने वाले साहब के  हाथ ....जेब में रखे नोट को मुट्ठी में भींच कर उसकी और बढ़ चले .....कुछ मिलने का एहसास उसे भी हो रहा था .....उसे भूख थी.....पर नोट की इच्छा नहीं ....इससे पहले कि उन हाथों से वह नोट उसकी झोली मे गिरता .......उसके मूंह से उसकी बनाई पैरोडी निकल पड़ी.....

ऐ भाई ज़रा देख के चलो ...
आगे भी नहीं....पीछे भी
ऐ भाई ...अपुन को नोट नहीं
कुछ खाने को दो.....

साहब के बढ़े हुए हाथ वापस  लौट चले जेब में ....और फिर अब न कुछ कहने को बचा था....न कुछ करने को.....न ही आस पास कोई दुकान थी .... हाँ उनके  के  कंधे पर लटक रहा टिफिन बॉक्स खाली ज़रूर था मगर .....बची हुई जूठन से ...पर वह जूठन उसे देना.......? साहब का मन बोल उठा.....न यह नहीं हो सकता......

सोच में मग्न साहब को जब होश आया....वह चलते चलते .....उनकी आँखों की पहुँच के पार हो गया था.....और साहब अब भी वहीं खड़े थे......उसी चौराहे की लाल बत्ती पर। 

©यशवन्त माथुर©

(लघु कथा लिखने का यह मेरा सबसे पहला प्रयास है। पता नहीं यह लघु कथा है या कुछ और ...फिर भी जब लिख गयी तो ब्लॉग पर छापने से खुद को रोक नहीं सका हूँ ) 

16 comments:

  1. ummm... naaaa not much impressive ... thodi aur mehnat kariye is par.

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार (2-2-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  3. कोशिश अच्छी है...थोड़ा विषय और स्पष्ट होता तो मज़ा आता...

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  4. मन अक्सर ऐसी दुविधा में फंस जाता है
    सुन्दर और सार्थक कथा .

    ReplyDelete
  5. achchha prayatna kiya hai aur jo kuchh sochane par majaboor kar de vahi laghu katha hai.

    ReplyDelete
  6. अच्छी लगी आपकी कथा..बधाई !

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुन्दर,एव सार्थक कथा।

    ReplyDelete
  8. प्रयास बहुत बढ़िया रहा..सुन्दर और सार्थक कथा .बधाई यशवन्त

    ReplyDelete
  9. सफल प्रयास..कोशिश जारी रखे...
    शुभकामनाएँ...
    :-)

    ReplyDelete
  10. कभी कभी लघु कथा... कविता जैसी लगती है ... मगर आप दुरुस्त है

    ReplyDelete
  11. अच्छा प्रयास है |
    आशा

    ReplyDelete
  12. बहुत खूब भाव पूर्ण प्रस्तुति

    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
    एक शाम तो उधार दो

    मेरे भी ब्लॉग का अनुसरण करे

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!