प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

05 April 2013

क्षणिका

जिद्दी मन
कभी कभी
खुद की भी नहीं सुनता
और वही करता है 
जो उसे
खुद को
अच्छा लगता है।

~यशवन्त माथुर©

12 comments:

  1. सही है
    सुनो सबकी
    करो मन की
    शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  2. खुद को अच्छा लगता है वही करता है इसका अर्थ तो यही हुआ कि खुद को ही सुनता है..?

    ReplyDelete
  3. सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति . हार्दिक आभार हम हिंदी चिट्ठाकार हैं

    ReplyDelete
  4. मन की बात सुनना भी जरुरी है, वह जो भी करता है मन से करता है...शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  5. मन कि जिद से कौन जीत पाया है भला ...

    ReplyDelete
  6. सही कहा आपने प्रणाम स्वीकारें इस शानदार प्रस्तुति के लिए ...

    ReplyDelete
  7. उसकी बात सुननी तो पड़ेगी,पर बच्चों जैसा होता है मन बहलाना भी आसान है .

    ReplyDelete
  8. सच है !!!

    ReplyDelete
  9. मन ही जो ठहरा

    ReplyDelete
  10. bilkul sahi kaha

    jiddi man kahan sunta hai...


    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  11. sach hai ziddi man nhi sunta...

    achha likha hai

    shubhkamnayen

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!