प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

11 June 2012

कुछ अविश्वसनीय चित्र

 रोज़ तो आप मेरी रचनाएँ पढ़ते ही हैं लेकिन आज आप सभी के साथ कुछ अविश्वसनीय चित्र साझा कर रहा हूँ जो मुझे यशोदा दीदी ने मेल पर भेजे हैं । यह चित्र देखने मे किसी कैमरे से खींचे गये लगते हैं जबकि वास्तव मे इन्हें पेंसिल से बनाया गया है।  

चित्रकार हैं -श्री पॉल कैडन ।  



"Artist's drawings take between three and six weeks to create and sell for up to £5,000 each. These might look like photographs, but it's not all black and white when it comes to the work of this artist.

Despite looking like they have been captured on a camera, these are actually hand-drawn images created by hyper realist artist Paul Cadden. The 47-year-old, from Scotland , is able to recreate photos in amazing detail, often just using only a pencil.


From the wrinkles on a woman's face, a puff of smoke from a cigarette or dripping water - Cadden's drawings look unbelievably realistic."

















 

साभार-http://mails.forwards4all.com

25 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. भाई....
    शुभ संध्या
    धन्यवाद भाई
    सादर

    ReplyDelete
  2. sachmuch adbhut hain ye chitra . agar bataya n jaye to koi bhi yakin nahin karega ki ye hath se banaye gaye hai .

    ReplyDelete
  3. Fantastic art...thanks for sharing..

    ReplyDelete
  4. मानना मुश्किल है यशवंत..............
    तुम्हारी पोस्ट न होती तो कटाई यकीन न करते के ये पेंसिल आर्ट है..........

    बेहद खूबसूरत.

    सस्नेह.

    ReplyDelete
  5. SIMPLY AMAZING !!!!!!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  6. लाजवाब कलाकारी है...
    अद्दभुत

    ReplyDelete
  7. अद्वितीय - अद्धभुत - अतुलिनीय - उत्तम - बेमिसाल
    अभी इससे ज्यादा याद नहीं आ रहा .... !!

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर..बेमिसाल !

    ReplyDelete
  9. अद्भुत चित्र. अच्छे लगे.

    ReplyDelete
  10. वाह कमाल के चित्र लगाए हैं आपने अदबुद्ध मगर यदि मैं ईमानदारी से अपनी राय दूँ तो पहले तीसरे और चौथे चित्र के में मुझे ज़रा भी नहीं लग रहा है की यह चित्र हाथ से बनाए गए है :) बाक़ी के में थोड़ी शंका हुई...

    ReplyDelete
  11. लाजवाब प्रस्‍त‍ुति ।

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!