प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

17 June 2012

ज़रूरी है ....

चुपके से खींचा गया फोटो-09/06/2012 
सिर पर
एक हाथ ज़रूरी है
हर पल का साथ
ज़रूरी है
आते जाते कदमों पर
एक एहसास ज़रूरी है

ज़रूरी हैं
कल की यादें
आज और
कल की बातें

ज़रूरी है
वही प्रेरणा
वही विश्वास
जो कल था
और
आज भी है
मेरे लिये
मेरे साथ
हमेशा की तरह!

©यशवन्त माथुर©

28 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. जब तक हैं तब तक सिर पर हाथ है ही परंतु आशीर्वाद बाद तक कायम रहेगा। ज़रूरी है 'आत्म-विश्वास' और 'आत्म-निर्भरता' तथा लोगों को पहचानने की क्षमता। दीवार तक सब देखते हैं हमने दीवार के उस पर देखना सीखा है उसी परंपरा को कायम रखने का दायित्व भी लेना होगा। जैसा देखा है कि किस प्रकार चारों ओर से घिर कर भी सकुशल अपने को निकाला है उसी दृढ़ता को अपनाना होगा। सम्मान करना ठीक है लेकिन झुकना कभी न हो ,अपना सम्मान कभी न गवाना होगा। जो देखा है उसे सीख कर अपनाना होगा तो कभी भी न पक्षताना होगा। तूफानों से भी टकराने का हौसला दिखाना होगा तो जीवन सदा सुहाना होगा।

    ReplyDelete
    Replies
    1. देखा है कि किस प्रकार चारों ओर से घिर कर भी सकुशल अपने को निकाला है उसी दृढ़ता को अपनाना होगा। सम्मान करना ठीक है लेकिन झुकना कभी न हो ,अपना सम्मान कभी न गवाना होगा। जो देखा है उसे सीख कर अपनाना होगा तो कभी भी न पक्षताना होगा। तूफानों से भी टकराने का हौसला दिखाना होगा तो जीवन सदा सुहाना होगा।
      आपके आदर्श को नमन .... :)

      Delete
  2. very touching.... happy fathers day.....

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर यशवंत.....
    और उतनी ही सुन्दर पापा की टिप्पणी.....
    उनका हाथ सदा बना रहे तुम्हारे सर पर...

    happy fathers day
    सस्नेह.

    ReplyDelete
  4. ज़रूरी है
    वही प्रेरणा
    वही विश्वास

    और जरूरी है चुपके से इस तरह के नैसर्गिक फोटो का खींचा जाना
    पितृ दिवस की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  5. भावपूर्ण , हृदयस्पर्शी

    ReplyDelete
  6. ज़रूरी है और हमेशा ज़रूरी रहेगा भी...!

    ReplyDelete
  7. Sar par hath zaruri he....bhagwan kare ye sath yun hi bana rahe....sada k liye :)

    ReplyDelete
  8. सही बात , हैप्पी फादर्स डे

    ReplyDelete
  9. कितनी सुन्दर लग रही है बेटे की पोस्ट पर पिता की टिप्पणी... हमेशा बना रहे ये साथ ... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  10. ज़रूरी है
    वही प्रेरणा
    वही विश्वास
    जो कल था
    और
    आज भी है
    मेरे लिये
    मेरे साथ
    हमेशा की तरह...बहुत सुन्दर यशवन्त...पापा की टिप्पणी के रुप में आशीर्वाद बहुत सुन्दर...शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  11. बहुत खूब ...पिता दिवस की शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  12. आते जाते कदमों पर
    एक एहसास ज़रूरी है
    मेरेआपके लिये
    मेरेआपके साथ
    हमेशा की तरह!
    हमेशा के लिये!

    ReplyDelete
  13. खूबसूरत एहसास .... पापा के शब्द मिल गए इससे बड़ा आशीर्वाद क्या हो सकता है ?

    ReplyDelete
  14. यह हाथ सिर पर सदा बना होना चाहिए ...
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर...... पापा का आशीर्वाद तो हमेशाही रहेगा

    शुभकानाये !

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  17. यह स्‍नेह और सानिध्‍य आशीष संग हमेशा क़ायम रहे ... शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  18. बहुत खूब ...सत्य हैं

    ReplyDelete
  19. वाकई बहुत ज़रूरी है ...

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर और सटीक पोस्ट।

    ReplyDelete
  21. on mail by-dira mukhopadhyay ji

    बहुत सुंदर कविता,

    ReplyDelete
  22. प्रेरणा खुशबू बन महक रही है इन पंक्तियों से।।सुन्दर ..

    ReplyDelete
  23. प्रेरणा खुशबू बन महक रही है इन पंक्तियों से।।सुन्दर ..

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!