प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

14 June 2012

अनकही बातें

कहीं रत जगे हैं 
कहीं अधूरी मुलाकातें हैं  
हवाओं की खामोशी में 
आती जाती सांसें हैं । 

डरता है कुछ कहने से 
मन की अजीब चाहतें हैं 
किसी कोने मे दबी हुई 
अब भी अनकही बातें हैं।

©यशवन्त माथुर©

15 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. बहुत सुन्दर यशवंत..
    सस्नेह.

    ReplyDelete
  2. वाह ... बेहतरीन भाव संयोजन ...

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर यशवन्त...सस्नेह

    ReplyDelete
  4. अनकही बातें.....
    छुपी रहती है..
    अक्सर...
    हर किसी के
    पारिवरिक जीवन में..
    पर कविता के रूप में पढ़ी
    पहली बार...

    ReplyDelete
  5. वाह||||
    लाजवाब
    बहुत ही अच्छा लिखा है आपने

    एक मेरी तरफ से...
    कहना तो बहुत कुछ चाहते थे उनसे..
    पर इस जुबान ने साथ ना दिया
    कभी वक्त की ख़ामोशी में खामोश रह गए
    कभी उनकी ख़ामोशी ने कुछ कहने ना दिया..]
    :-)

    ReplyDelete
  6. बहुत खूब|||
    बहुत ही सुन्दर
    :-)

    ReplyDelete
  7. किसी कोने मे दबी हुई
    अब भी अनकही बातें हैं।

    बेहतरीन रचना,,,,,

    ReplyDelete
  8. बाते हैं ...बातो का क्या हैं ...

    ReplyDelete
  9. sundar panktiyan

    ReplyDelete
  10. किसी कोने मे दबी हुई
    अब भी अनकही बातें हैं।
    किसी अपने से कह डालिए
    अगर दुःख है तो आधा और
    सुख है तो दूना होना निश्चित है .... !!

    ReplyDelete
  11. बहुत खूब यशवंत जी!

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!