प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

24 June 2012

बातों की नियति

कविताओं में
लेखों में
बैनरों मे लिखे नारों मे
जुलूसों में
सेमिनारों में
होती हैं
बड़ी बड़ी बातें
एक पल को
जो मन को भाती  हैं
तर्क की कसौटी पर
सधी हुई बातें
जो
कुतर्कों से
कट नहीं पाती हैं
अच्छी लगती हैं
मंच के सामने बैठ कर
सुनने में
और कुर्सी से उठने के बाद
मंच से बोलने के बाद
ये अनमोल बातें
खो देती हैं मोल
हार जाती हैं
धूल की तरह जमी हुई
बरसों पुरानी सोच से
तर्क के भीतर छुपे
कुतर्क से

शायद बातों की
यही नियति है । 


©यशवन्त माथुर©

23 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. अच्छी हैं......बातों की नियति........तर्क के भीतर छुपे
    कुतर्क से.........

    ReplyDelete
  2. और कुर्सी से उठने के बाद
    मंच से बोलने के बाद
    ये अनमोल बातें
    खो देती हैं मोल
    हार जाती हैं
    धूल की तरह जमी हुई
    बरसों पुरानी सोच से
    तर्क के भीतर छुपे
    कुतर्क से

    सच है .... बहुत गहरी बात कही

    ReplyDelete
  3. वाह ... बेहतरीन प्रस्‍तुति ..

    ReplyDelete
  4. सत्य! काश कि बातों के मायने बदल पायें... और नियति भी..
    सादर

    ReplyDelete
  5. बहुत खूब ... आपने असली बात कह दी ...

    ReplyDelete
  6. Par niyati kabhi badli kaha h....jo likha h wo to ho k hi rehta h...

    ReplyDelete
  7. बातों की नियत शब्दों के द्वारा ,बहुत खूब यशवंत जी....

    ReplyDelete
  8. और कुर्सी से उठने के बाद
    मंच से बोलने के बाद
    ये अनमोल बातें
    खो देती हैं मोल
    हार जाती हैं
    धूल की तरह जमी हुई
    बरसों पुरानी सोच से
    तर्क के भीतर छुपे
    कुतर्क से

    बिलकुल सही कहा .... बात सिर्फ बात करने के लिए होती है ....

    ReplyDelete
  9. वाह...
    बहुत बढ़िया प्रस्तुति यशवंत..

    सस्नेह.

    ReplyDelete
  10. Agree.. ppl are fated to talk..
    to talk about almost everything :P

    ReplyDelete
  11. शायद बातों की
    यही नियति है ।
    वाह ... बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  12. सुन्दर और शानदार प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  13. वाह बहुत खूब जी ....बाते हैं बातो का क्या हैं .......कृपया दिल पर ना ...सिर्फ बाते ही तो हैं ...

    ReplyDelete
  14. शायद बातों की
    यही नियति है ।
    होती नहीं अगर
    हमारी नियत सही होती |

    ReplyDelete
  15. bahut achha likha hai. satik avlokan.
    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  16. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल रविवार को 08 -07-2012 को यहाँ भी है

    .... आज हलचल में .... आपातकालीन हलचल .

    ReplyDelete
  17. धूल की तरह जमी हुई
    बरसों पुरानी सोच से
    तर्क के भीतर छुपे
    कुतर्क से

    गहन अभिव्यक्ति है ....बहुत अच्छा लिखा है ...कुछ बातें सिर्फ बातें ही रह जातीं हैं अगर हमारी सोच उसे ग्रहण ना करे ......!!
    शुभकामनायें यशवंत.....

    ReplyDelete
  18. बहुत सुंदर सटीक प्रस्तुती ....

    ReplyDelete
  19. बहुत गहन भाव अभिव्यक्ति ...वास्तव में अपने ब्यवहार में सत्य का अन्वेषण ओर अनुपालन करना कठिन हो गया है ....शुभ कामनाएं यशवंत जी ..
    मेरे ब्लॉग में लोग इन तथा सेट्टिंग की समस्या आ गयी है जबसे मेने डायनामिक व्यू चयनित किया है ...इसलिय इन कठिनाईयों के कारण काफी समय से में ब्लॉग में नहीं आ पा रहा हूँ .....
    क्षमा याचना सहित
    सादर !!!

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!