प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

12 June 2012

क्षणिका

ए वक़्त !
बस इतना सा एहसान कर दे
धूल के गुबार की तरह
मेरा ज़र्रा ज़र्रा उड़ता जाए
और कहीं खो जाए
ज़मीं पर गिरने से पहले।

©यशवन्त माथुर©

31 comments:

मॉडरेशन का विकल्प सक्षम होने के कारण आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित होने में थोड़ा समय लग सकता है।

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन टिप्पणी में न दें।

केवल चर्चामंच का लिंक ही दिया जा सकता है, इसके अलावा यदि बहुत आवश्यक न हो तो अपने या अन्य किसी ब्लॉग का लिंक टिप्पणी में न दें, अन्यथा आपकी टिप्पणी यहाँ प्रदर्शित नहीं की जाएगी।

  1. इस दो गज जमीन से कहां छुटकारा है यशवंत जी ...
    बहुत उम्दा बात कही है ...

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर अहसास....

    ReplyDelete
  3. वाह...बेजोड़ क्षणिका...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  4. धुल के गुबार की तरह क्यूँ ...बादलों की तरह उडो......
    और जम कर बरसो.......
    :-)
    सस्नेह

    ReplyDelete
  5. मित्रों चर्चा मंच के, देखो पन्ने खोल |

    पैदल ही आ जाइए, महंगा है पेट्रोल ||

    --

    बुधवारीय चर्चा मंच

    ReplyDelete
  6. *मेरा ज़र्रा ज़र्रा उड़ता जाए
    और कहीं खो जाए*
    नहीं - नहीं .... खोये नहीं ,हर ज़र्रा से यश फैले जिसका कभी भी अंत ना हो .... :)

    ReplyDelete
  7. वैसे ज़मीन से जुड़े रहने का अपना मज़ा है ...है न !

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर एवं मर्मस्पर्शी रचना !

    ReplyDelete
  9. आपके ऐसा बेज़ार होने को मैं तनिक हँस कर देख रहा हूँ :))

    ReplyDelete
  10. on mail by Yashoda Agarwal Ji

    ए वक़्त !
    बस इतना सा एहसान कर दे..........
    क्या बात है..असाधारण सोच..

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  12. गहन भाव ... बेहतरीन

    ReplyDelete
  13. बहुत भावमई अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  14. बहुत भावमई अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  15. छोटी परन्तु अच्छी रचना!

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!