प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

02 March 2011

बातें तो वही हैं...

बातें तो सब  वही हैं पर 
कहने के अंदाज़ अलग हैं
साज तो सब वही हैं 
पर सुर और राग अलग हैं 

घूम फिर कर अंत आदि
और आदि अंत हो जाता है 
अक्षरों का शब्दों का हेरफेर हो जाता है 
हैं सब वही तस्वीर कल्पना के रंग अलग हैं 

बातें तो सब वही हैं 
पर कहने के अंदाज़ अलग हैं.


18 comments:

  1. बातें तो सब वही ... अंदाज अलग ,लोग अलग , एहसास अलग...

    ReplyDelete
  2. कहने का अंदाज तो सचमूच अलग है आपका जी, स्वागतम...

    ReplyDelete
  3. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (2-3-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  4. बातें तो सब वही हैं
    पर कहने के अंदाज़ अलग हैं.

    बहुत सुन्‍दर शब्‍द ...बेहतरीन ।

    ReplyDelete
  5. sach kaha aapne baaten bahi hain par andaaj badal gaye hain

    ReplyDelete
  6. बिल्कुल सही कहा है आपने। बात तो एक ही रहती है पर तरीके अलग अलग हो जाते है।

    ReplyDelete
  7. बातें तो सब वही हैं
    पर कहने के अंदाज़ अलग हैं.

    कितनी गहरी बात..... सुंदर

    ReplyDelete
  8. वाह क्या बात है ...बहुत प्यारा अंदाज़ है
    शिवरात्रि के पावन पर्व की मंगलकामनाएं !!

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति|

    महाशिवरात्री की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  10. उम्दा रचना!!


    महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  11. अच्छा लगा बाते कहने का अंदाज़ !

    ReplyDelete
  12. जीवन भी तो वही है , बस जुदा है जीने के अंदाज़ !

    ReplyDelete
  13. आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद.चर्चा मंच पर लेने के लिए वंदना जी का विशेष आभार.

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर बात कही। कहने का अंदाज ही बात के वजन को बढाता है।

    ---------
    ब्‍लॉगवाणी: ब्‍लॉग समीक्षा का एक विनम्र प्रयास।

    ReplyDelete
  15. वाह क्या बात है.....उम्दा रचना

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना |बधाई
    आशा

    ReplyDelete
  17. बातें तो सब वही हैं
    पर कहने के अंदाज़ अलग हैं.bahut sunder bhav liye anokhi rachanaa.badhaai sweekaren.



    please visit my blog.thanks.

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!