प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

25 March 2011

बोलता रहूँगा

जब जब
जो भी मन में आएगा
कहता रहूँगा
कोई तो सुनने आएगा
बोलता रहूँगा

बोलता रहूँगा
जब तक सुनना चाहेंगे लोग
बोलता रहूँगा
जब तक मुझे चाहेंगे लोग

ये शब्दों की उड़ानें हैं
मन के तराने हैं
दिल के अल्फाजों को
जुबां देता रहूँगा

बोलता रहूँगा !

14 comments:

  1. दिल के अल्फाजों को
    जुबां देता रहूँगा
    यह हुई ना बात , शुभकामनायें

    ReplyDelete
  2. ये शब्दों की उड़ानें हैं
    मन के तराने हैं
    दिल के अल्फाजों को
    जुबां देता रहूँगा... bhut hi acchi lines hai...

    ReplyDelete
  3. दिल के अल्फाजों को
    जुबां देता रहूँगा

    अर्थपूर्ण....सकारात्मक ...

    ReplyDelete
  4. जो भी मन में आएगा
    कहता रहूँगा
    कोई तो सुनने आएगा
    बोलता रहूँगा.....

    भावपूर्ण सुन्दर कविता...

    ReplyDelete
  5. ये शब्दों की उड़ानें हैं
    मन के तराने हैं
    दिल के अल्फाजों को
    जुबां देता रहूँगा... aur hum sunte rahenge

    ReplyDelete
  6. ये शब्दों की उड़ानें हैं
    मन के तराने हैं
    दिल के अल्फाजों को
    जुबां देता रहूँगा
    bahut achcha laga.

    ReplyDelete
  7. बहुत सार्थक प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  8. बहुत मनभावन है आपकी रचना … पढ़ कर आनन्द आ गया ।

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  10. वाह ...बहुत ही अच्‍छा लिखा है ।

    ReplyDelete
  11. ये शब्दों की उड़ानें हैं
    मन के तराने हैं
    दिल के अल्फाजों को
    जुबां देता रहूँगा

    आपका ब्लॉग बहुत संगीतमय है...
    REALLY.... HOW SWEET...

    और कविता मनभावन.....
    बधाई स्वीकारें !

    ReplyDelete
  12. आप चिंता न करें... हम लोग हैं न सुनने के लिए...
    आप तो बस बोलते रहें...

    ReplyDelete
  13. खूब बोलो यार ,तुम्हारी आवाज़ बुलन्द हो यही कामना है....

    ReplyDelete
  14. आप सभी का तहे दिल से शुक्रिया.

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!