प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

16 March 2011

कुछ मैं भी लिख दूँ.

सब ने
सब कुछ तो कह दिया
हर रंग बिखेर दिया
मैं भी चाहता हूँ कहना
वही सब दोहराना
हां
मगर अपनी तरह से
सोच रहा हूँ
कुछ मैं भी लिख दूँ.

14 comments:

  1. सब ने
    सब कुछ तो कह दिया
    हर रंग बिखेर दिया
    मैं भी चाहता हूँ कहना
    वही सब दोहराना
    हां
    मगर अपनी तरह से
    सोच रहा हूँ
    कुछ मैं भी लिख दूँ.

    सुन्दर कविता.. बेहद कोमल रचना और भाव !
    आपको सपरिवार होली पर शुभकामनायें..

    ReplyDelete
  2. likhiye-likhiye... holi sabke liye rangeeli hai...

    ReplyDelete
  3. हां
    मगर अपनी तरह से
    सोच रहा हूँ
    कुछ मैं भी लिख दूँ.


    वाह बहुत बढ़िया ....

    ReplyDelete
  4. बहुत भावमयी रचना...बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  5. क्या बात है...

    ReplyDelete
  6. इसे लिखा माने या भूमिका.

    ReplyDelete
  7. हम तो इंतजार में ही बैठे है। होली की हार्दिक शुभकामनाएॅ।

    ReplyDelete
  8. CHALIYE AAP NE BHI KUCHH KAH LIYA...MUJHE KHUSHI HUI...MAN KI BAAT TO ITNI HIN SUNDAR HOTI HAY.

    ReplyDelete
  9. ये अन्दाज़ भी सुन्दर है…………होली की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  10. होली की शुभ कामनाओं के साथ आप सभी को बहुत बहुत धन्यवाद!

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!