प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

15 March 2011

तुम ...

कभी
मन के बादलों की ओट से
झांकते हो
एक नज़र देखते हो
और फिर
जाने कहाँ खो जाते हो
तुम 

तुमको
महसूस किया है
मैंने कई बार
कोशिश की है
बात करने की
तुम्हारी आँखों में झाँकने की
तुम तेज़ी से आते हो
और
मेरे नजदीक 
अपने होने का 
एहसास करा कर
चले  जाते हो

मैं कभी कभी सोचता हूँ
यह मेरा
कोई भ्रम तो नहीं
तुम्हारा आस्तित्व
कोई छल तो नहीं

मैं सोचता जाता हूँ
कि तुम नहीं हो
पर तभी
तुम्हारी
एक आहट से
चौंक उठता हूँ
और मेरी सारी सोच
धराशायी हो जाती है

शायद तुम कस्तूरी हो
और मैं मृग
या तो तुम अजीब हो
या मैं ही अजीब हूँ!

24 comments:

  1. यही उसकी लीला है…………अपना अहसास भी कराता है और छुप जाता है और इंसान उम्र भर इसी मृगतृष्णा मे घूमता रहता है…………बेहद उम्दा प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  2. waah... prem hi jane prem ki maaya...
    bahut sundar...

    ReplyDelete
  3. शायद तुम कस्तूरी हो
    और मैं मृग
    या तो तुम अजीब हो
    या मैं ही अजीब हूँ!

    bahut badhiyaa

    ReplyDelete
  4. शायद तुम कस्तूरी हो
    और मैं मृग
    या तो तुम अजीब हो
    या मैं ही अजीब हूँ!

    बहुत सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
  5. बहुत भावपूर्ण अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  6. बहुत खूब ...।

    ReplyDelete
  7. शायद तुम कस्तूरी हो
    और मैं मृग
    या तो तुम अजीब हो
    या मैं ही अजीब हूँ!
    बेहद उम्दा प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब... उम्दा अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  9. मैं सोचता जाता हूँ / कि तुम नहीं हो / पर तभी / तुम्हारी / एक आहट से /
    चौंक उठता हूँ / और मेरी सारी सोच / धराशायी हो जाती है

    यशवंत जी आपने सुन्दर रचना लिखी है.
    बधाई व आभार

    ReplyDelete
  10. प्रभावी अभिव्यक्ति । शुभकामनायें !!!

    ReplyDelete
  11. वाह यशवंत भाई वाह| बहुत ही सुंदर कविता| बधाई|

    ReplyDelete
  12. बेहतरीन रचना..

    ReplyDelete
  13. वाह ...बहुत ही सुन्‍दर ।।

    ReplyDelete
  14. कई दिनों व्यस्त होने के कारण  ब्लॉग पर नहीं आ सका

    ReplyDelete
  15. मैं सोचता जाता हूँ
    कि तुम नहीं हो
    पर तभी
    तुम्हारी
    एक आहट से
    चौंक उठता हूँ
    और मेरी सारी सोच
    धराशायी हो जाती है.......

    आपने बहुत सुन्दर शब्दों में अपनी बात कही है।
    शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  16. शायद तुम कस्तूरी हो
    और मैं मृग
    या तो तुम अजीब हो
    या मैं ही अजीब हूँ!

    अजीब दांस्तां है ये.. कहां शुरू कहां खतम.....

    ReplyDelete
  17. बहुत बहुत खूबसूरत भाव लिए रचना |बधाई
    आशा

    ReplyDelete
  18. आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद!

    ReplyDelete
  19. बहुत - बहुत सुन्दर...
    हृदयस्पर्शी रचना....

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!