प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

10 March 2011

क्षणिका

बीतते वक़्त की
तरह
मैं भी
बीत जाना चाहता हूँ
और
छोड़ जाना चाहता  हूँ
कुछ निशाँ
कल फिर
याद आने के लिए.

14 comments:

  1. लाजवाब क्षणिका। शुभकामनायें

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब्…………शानदार्।

    ReplyDelete
  3. आपका मन सही कह रहा है. कुछ निशां नहीं छोड़े तो समझो बिलकुल मिट गए. बधाई.

    www.dunali.blog.com

    ReplyDelete
  4. अच्छे भावों की सुन्दर क्षणिका

    ReplyDelete
  5. अच्छी लगी क्षणिका .... बहुत खूब

    ReplyDelete
  6. प्रिय यशवंत जी
    सस्नेह अभिवादन !

    छोड़ जाना चाहता हूं
    कुछ निशां
    कल फिर
    याद आने के लिए

    बहुत प्यारी क्षणिका लिखी भाई !
    चलती रहे , निखरती रहे आपकी लेखनी … अस्तु !


    भुलाना मुझे इतना आसां न होगा
    कई दास्तानें दिये जा रहा हूं …


    …और तीन दिन पहले आए
    विश्व महिला दिवस की हार्दिक बधाई !
    शुभकामनाएं !!
    मंगलकामनाएं !!!

    ♥मां पत्नी बेटी बहन;देवियां हैं,चरणों पर शीश धरो!♥


    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  7. bahut khub

    ------------
    देवेन्द्र दत्त मिश्र जी से मिलवाने के लिए आभार...

    ReplyDelete
  8. आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद!

    ReplyDelete
  9. होली की अपार शुभ कामनाएं...बहुत ही सुन्दर ब्लॉग है आपका....मनभावन रंगों से सजा...

    ReplyDelete
  10. शानदार् शानदार् शानदार्....अच्छी लगी क्षणिका यशवंत भाई

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!