प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

03 March 2011

बस यूँ ही

बस यूँ ही
कुछ ख्याल
जो अक्सर
मन में आ जाते हैं
लिख देता हूँ
यहाँ
एक किताब समझ कर
ये कविता है या नहीं
मैं नहीं जानता
ये शायरी या कुछ और
मैं नहीं जानता
बस कोशिश करता हूँ
कुछ अपनी कहने की
और कुछ सुनने की
शायद
इस बात से
कोई नयी बात बन जाए
शायद
एक नयी सोच बन जाए
शायद
मेरा बन बदल जाए
कुछ  पल को
और पा लूँ
अस्थायी मुक्ति
छद्म प्रलाप से.

19 comments:

  1. बहुत ही सुन्‍दर भावमय करते शब्‍द ।

    ReplyDelete
  2. टिपण्णी कर रही हूँ
    ये सोचकर
    शायद इससे
    आपका होसला बढ़ जाये.
    बहुत खूब.

    ReplyDelete
  3. अच्छे शब्द दिए हैं आपने अपने भाव को ... बहुत खूब ..

    ReplyDelete
  4. वाह क्या बात कही है…………सुन्दर भाव संयोजन्।

    ReplyDelete
  5. वाह...
    बहुत खूब...
    यहाँ मुक्ति और शांती दोनों है... अपार मात्रा में...
    जितनी चाहे बटोर लीजिये...

    ReplyDelete
  6. कुछ पल को
    और पा लूँ
    अस्थायी मुक्ति
    छद्म प्रलाप से.
    अतिसुन्दर भावाव्यक्ति , बधाई

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब..सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  8. isi tarah to mann kalam ban panne per lakiren khinchta hai

    ReplyDelete
  9. कमाल की सोच और उम्दा भाव ....बहुत खूब

    ReplyDelete
  10. बेहतरीन शब्दों की जादुगरी।

    ReplyDelete
  11. आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद!

    ReplyDelete
  12. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (05.03.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    ReplyDelete
  13. खूबसूरत सोच जगाती पंक्तियां !!!

    ReplyDelete
  14. कुछ पल को
    और पा लूँ
    अस्थायी मुक्ति
    छद्म प्रलाप से...

    बेहतरीन शब्दों को आपने एक नए दृष्टिकोण से व्याख्यायित किया है..
    बहुत बहुत आभार !

    ReplyDelete
  15. यशवन्त माथुर जी,
    शायद
    इस बात से
    कोई नयी बात बन जाए
    शायद
    एक नयी सोच बन जाए
    शायद
    मेरा बन बदल जाए....

    अनेक रंग लिए हुए है आपकी सुन्दर भावाव्यक्ति ...
    बहुत खूब ..

    ReplyDelete
  16. कुछ पल को
    और पा लूँ
    अस्थायी मुक्ति
    छद्म प्रलाप से.
    kitna sach kaha he na aapne...sach me...ham sab ..jo likhe jate hain..wo isliye hi to likhte ..likhne ka baad..kuch plon ke liye khud ko halk mehsus krte hain
    bahut ache bhaaw...achi rchna

    ReplyDelete
  17. इस बात से
    कोई नयी बात बन जाए
    शायद
    एक नयी सोच बन जाए
    शायद
    मेरा बन बदल जाए
    कुछ पल को
    और पा लूँ
    अस्थायी मुक्ति
    छद्म प्रलाप से.
    ................उम्दा भाव ....बहुत खूब

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!