प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

यदि आप चाहें तो हमें कुछ सहयोग कर सकते हैं

21 March 2011

हैं कहाँ ?

न राग फाग के रहे
न कहकहे रहे यहाँ
थक के चूर  सो गए
उमंग का समय कहाँ ?

उमंग का समय कहाँ
कि भाग भाग जी रहे
पीके भांग झूमते
नौजवान हैं कहाँ ?

बे सुरे राग हैं
कि काग भी अब सोचते
बौरा गए आम हैं
पर कूक खो गयी कहाँ?

11 comments:

  1. ......सत्य है
    काफी सुंदर तरीके से अपनी भावनाओं को अभिवयक्त किया है

    ReplyDelete
  2. वास्तव में आज तो त्यौहार बस नाम के रह गए हैं !
    वो मौज -मस्ती ,वो मिलने-मिलाने के ज़माने जैसे लद गए !
    कविता में आपने यथार्थ को उकेरने की सार्थक कोशिश की है !
    आभार और शुक्रिया !

    ReplyDelete
  3. बहुत सच कहा है...आज त्योहारों में वह उमंग कहाँ है..बहुत सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  4. न राग फाग के रहे
    न कहकहे रहे यहाँ
    थक के चूर सो गए
    उमंग का समय कहाँ ?such me ab samaye kaha hai kisi ke pas...

    ReplyDelete
  5. उमंग का समय कहाँ
    कि भाग भाग जी रहे
    पीके भांग झूमते
    नौजवान हैं कहाँ
    aaj ka sach yahi hai.sarthak rachna hetu badhai.

    ReplyDelete
  6. उमंग का समय कहाँ
    कि भाग भाग जी रहे
    पीके भांग झूमते
    नौजवान हैं कहाँ

    बहुत सच कहा......बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  7. उमंग का समय कहाँ
    कि भाग भाग जी रहे ....

    गहन अनुभूतियों की सुन्दर अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  8. बेहद उम्दा प्रस्तुति सच बयां करती हुयी।

    ReplyDelete
  9. उमंग का समय कहाँ
    कि भाग भाग जी रहे .

    बहुत खूब, बहुत खूब.

    ReplyDelete
  10. आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद!

    ReplyDelete

Popular Posts

+Get Now!